कबाड़ में दे अपनी पुरानी कार, नई कार पर मिलेगा डिस्काउंट... सरकारी स्कीम का ऐसे उठाएं फायदा

सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने ऐलान किया है कि व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी (Vehicle Scrappage Policy)  के तहत कार बेचने और इसके बाद नई कार खरीदने पर आपको 5 परसेंट तक की छूट मिलेगी।

 
कबाड़ में दे अपनी पुरानी कार, नई कार पर मिलेगा डिस्काउंट... सरकारी स्कीम का ऐसे उठाएं फायदा

New Delhi। पुरानी गाड़ियां जितना आम इंसान को परेशान करती हैं, उससे कहीं ज्यादा यह पर्यावरण को नुकसान पहुंचाती है। अगर आप भी पुरानी कार छोड़कर नई कार या गाड़ी लेने की सोच रहे हैं तो केंद्र सरकार की व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी (Vehicle Scrappage Policy) का फायदा उठाएं। व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी के तहत आप अपने पुराने वाहन को स्क्रैप कराकर, नई गाड़ी पर डिस्काउंट हासिल कर सकते हैं।

पुरानी कार कबाड़ में, नई कार पर छूट 

सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने ऐलान किया है कि व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी (Vehicle Scrappage Policy)  के तहत कार बेचने और इसके बाद नई कार खरीदने पर आपको 5 परसेंट तक की छूट मिलेगी। मतलब अगर किसी कार की कीमत 5 लाख रुपये है, तो 5 परसेंट के हिसाब से 25,000 रुपये उसको तुरंत छूट मिल जाएगी। इस साल संसद में पेश किए गए बजट में स्क्रैपिंग पॉलिसी का ऐलान किया गया था। 

नई व्हीकल स्क्रैपैज पॉलिसी (Vehicle Scrappage Policy) के तहत निजी वाहनों के लिए 20 साल बाद फिटनेस टेस्ट लेना जरूरी होगा, जबकि 15 साल पुरानी कमर्शियल गाड़ियों के लिए फिटनेस टेस्ट लेना जरूरी किया गया है। गडकरी (Nitin Gadkari) ने बताया कि इस पॉलिसी में छूट के अलावा और भी कई प्रावधान हैं, जैसे प्रदूषण फैलाने वाली पुरानी गाड़ियों के लिए ग्रीन टैक्स और दूसरे कई टैक्स लगाए जाएंगे। इन गाड़ियों का हर साल फिटनेस और पॉल्यूशन टेस्ट ऑटोमेटेड सेंटर्स में होगा। इसके लिए पूरे देश में फिटनेस ऑटोमेटेड सेंटर्स बनाए जाएंगे, इस दिशा में हम काम कर रहे हैं।

स्क्रैपिंग पॉलिसी के कई फायदे

स्क्रैपिंग के फायदे गिनाते हुए नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा कि एक चार सीटर सेडान कार को पांच साल में 1.8 लाख का नुकसान होता है, जबकि भारी वाहन को 3 साल में 8 लाख का नुकसान होता है। व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी (Vehicle Scrappage Policy) के स्ट्रक्चर और फ्रेमवर्क पर काम चल रहा है, ग्रीन टैक्स पहले ही लागू कर दिया गया है। राज्यों ने इसे बेहद अप्रभावी रूप से लागू किया है, हम राज्यों से कहना चाहते हैं कि वो प्रदूषण फैलाने वाली कारों पर सख्ती से ग्रीन टैक्स लगाएं।

सरकार ने पहले ऐलान किया था कि ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों पर ग्रीन टैक्स लगाया जाएगा। हालांकि हाइब्रिड, इलेक्ट्रिक और CNG, एथनॉल या LPG से चलने वाली गाड़ियों को इस टैक्स से छूट मिलेगी। इस टैक्स से हुई कमाई का इस्तेमाल प्रदूषण कम करने में किया जाएगा। इस स्कीम के तहत 8 साल पुरानी ट्रांसपोर्ट गाड़ियों से फिटनेस सर्टिफिकेट रीन्यूअल के समय रोड टैक्स का 10-25 परसेंट ग्रीन टैक्स वसूला जाएगा।

FROM AROUND THE WEB