PF Kaise Nikale: नौकरी छोड़ने के बाद अपना पीएफ कैसे निकालें, 4 Steps Guide

नौकरी छोड़ने के बाद भारत में वेतनभोगी लोग अक्सर ईपीएफ निकासी (PF Kaise Nikale) को लेकर चिंतित रहते हैं। बहुत से लोग या तो इसके बारे में नहीं जानते हैं, या वे संशय में हैं। हालांकि यह काम आपकी नियोक्ता कंपनी का एचआर संभालता है, लेकिन कई मौकों पर कंपनियां कर्मचारी को पीएफ निकालने में मदद नहीं करती हैं।
 
PF Kaise Nikale: नौकरी छोड़ने के बाद अपना पीएफ कैसे निकालें, 4 Steps Guide

नौकरी छोड़ने के बाद भारत में वेतनभोगी लोग अक्सर ईपीएफ निकासी (PF Kaise Nikale) को लेकर चिंतित रहते हैं। बहुत से लोग या तो इसके बारे में नहीं जानते हैं, या वे संशय में हैं। हालांकि यह काम आपकी नियोक्ता कंपनी का एचआर संभालता है, लेकिन कई मौकों पर कंपनियां कर्मचारी को पीएफ निकालने में मदद नहीं करती हैं। आज इस लेख में हम आपको ईपीएफ निकासी की पूरी प्रक्रिया आसानी से समझाएंगे।

कई बार देखा गया है कि अगर कर्मचारी किसी नोटिस की अवधि पूरी होने से पहले नौकरी छोड़ देता है, तो कंपनी अक्सर उसे ईपीएफ निकासी (PF Kaise Nikale) में मदद नहीं करती है। कई मौकों पर कंपनियां कुछ गलत कामों के चलते कर्मचारी को नौकरी से निकाल भी देती हैं। ऐसे में उन लोगों को पीएफ निकालने के लिए इधर-उधर परेशान होना पड़ता है।

ऐसे में देखा जाए तो पीएफ का पैसा हमेशा तभी निकाला जाना चाहिए जब बहुत जरूरी हो। नई नौकरी मिली तो पैसा नहीं निकाला जाएगा, क्योंकि आपकी पुरानी जमा राशि पर भी 8.75% तक ब्याज मिलता है। EPFO (PF Kaise Nikale) में जितना अधिक समय तक पैसा जमा रहेगा, आपको उतना ही अधिक ब्याज मिलेगा।

ईपीएफ क्या है?

EPF का मतलब कर्मचारी भविष्य निधि है। EPF एक प्रकार का रिटायरमेंट फंड है जिसे भारत में बहुत से लोगों ने निवेश करना शुरू कर दिया है जिसमें आपकी नियोक्ता कंपनी और आपके वेतन से एक छोटा सा हिस्सा काट लिया जाता है और भविष्य के लिए सुरक्षित कर दिया जाता है। इसमें आपकी सैलरी का 12 फीसदी कंपनी में और 12 फीसदी आपकी जेब से ईपीएफओ (PF Kaise Nikale) में जमा होता है।

कानून के मुताबिक जिस भी कंपनी में 20 या इससे ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं, उसका ईपीएफओ में रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। यहां यह भी ध्यान देने वाली बात है कि आपकी सैलरी से काटे गए 12 में से 12 फीसदी आपके ईपीएफ खाते में जाएगा। लेकिन 3.67% कंपनी द्वारा EPF (PF Kaise Nikale) में जाता है और शेष 8.33% EPS (कर्मचारी पेंशन योजना) में जाता है।

ईपीएफ निकासी क्या है?

ईपीएफ निकासी ईपीएफ फंड (PF Kaise Nikale) को वार्षिकी या एकमुश्त राशि में बदलने की प्रक्रिया है। ईपीएफ का पैसा एक ईपीएफओ कार्यालय से दूसरे कार्यालय में स्थानांतरित करके निकाला जा सकता है, और यह यूएएन (यूनिवर्सल अकाउंट नंबर) प्रणाली के माध्यम से ऑनलाइन भी किया जा सकता है।

आपके द्वारा अनुरोध करने के एक सप्ताह के भीतर पैसा आपके बैंक खाते में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। भारत में ईपीएफ निकालना आसान और परेशानी मुक्त है!

ये है ईपीएफ निकासी (PF Kaise Nikale) की प्रक्रिया

शुरू करने से पहले चेकलिस्ट

  • पीएफ खाता संख्या / यूएएन संख्या।
  • शामिल होने की तिथि।
  • नौकरी छोड़ने की तिथि।
  • बैंक खाता संख्या जो नियोक्ता द्वारा पंजीकृत की गई है।
  • बैंक शाखा का पूरा पता, बैंक का नाम और IFSC कोड।

1. ईपीएफ निकासी की ऑफलाइन प्रक्रिया

वैसे सरकार ने ईपीएफ निकासी (PF Kaise Nikale) की पूरी व्यवस्था को आसान बनाते हुए इसे ऑनलाइन कर दिया है। लेकिन, आज भी देश में कई लोग ऑफलाइन तरीके का इस्तेमाल करते हैं। इसके लिए ईपीएफओ की वेबसाइट पर अलग-अलग तरह के फॉर्म दिए गए हैं। आप इस लिंक पर जाकर अपनी आवश्यकता के अनुसार फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं।

ध्यान देने योग्य बातें

  • फॉर्म भरते समय सही जानकारी भरें।

  • फॉर्म भरने से पहले आपको अपने आधार और बैंक खाते को UAN से लिंक करना होगा।

  • अगर आपके UAN से आधार कार्ड लिंक नहीं है तो सबसे पहले इसे लिंक करें, इसके लिए आप EPFO ​​ऑफिस जा सकते हैं.

  • आधार कार्ड लिंक होने के बाद कंपनी से इसे सर्टिफाइड करवाएं।

  • इसके बाद फॉर्म में डिटेल्स भरकर ईपीएफओ ऑफिस में सबमिट कर दें।

2. ऑनलाइन ईपीएफ निकासी प्रक्रिया

पिछले कुछ सालों में सरकार ने ईपीएफ निकासी की प्रक्रिया को बेहद आसान बना दिया है। आप घर बैठे ऑनलाइन फॉर्म भरकर अपना पीएफ का पैसा निकाल सकते हैं। इसके लिए आपके पास UAN नंबर होना चाहिए। आपकी सैलरी स्लिप में इसका जिक्र होता है। इसके लिए आपको सबसे पहले EPFO ​​की वेबसाइट पर जाकर अपना UAN नंबर चेक करना होगा।

ध्यान देने योग्य बातें

  • फॉर्म भरते समय सही और सही जानकारी भरें

  • आपका आधार और बैंक खाता यूएएन से जुड़ा होना चाहिए, अन्यथा आपका दावा खारिज कर दिया जाएगा।

  • अगर आपके UAN से आधार कार्ड लिंक नहीं है तो पहले इसे लिंक करें.

  • आधार कार्ड लिंक होने के बाद कंपनी से सर्टिफाइड करवाएं

  • इसके बाद फॉर्म में डिटेल भरकर ऑनलाइन क्लेम सबमिट कर सकते हैं।

Step 1: अपना यूएएन सक्रिय करें

  1. सदस्य ई-सेवा पोर्टल पर जाएं

  2. अपना यूएएन नंबर, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालकर यहां सबमिट करें

  3. अगर पासवर्ड भूल गए हैं, तो पासवर्ड रीसेट करें

  4. अगर यूएएन एक्टिवेट नहीं है तो इस पेज पर नीचे जाएं, वहां आपको यूएएन एक्टिवेट का बटन दिखाई देगा। मांगी गई जानकारी दर्ज करें, आपका यूएएन सक्रिय हो जाएगा।

Step 2: अपनी पासबुक जांचें

  1. UAN नंबर एक्टिवेट होने के बाद EPFO ​​पासबुक (PF Kaise Nikale) पर जाएं

  2. अपना यूएएन और पासवर्ड डालकर पासबुक की जांच करें।

  3. खाते में जमा राशि के अनुसार तय करें कि आपको कितने पैसे निकालने हैं।

Step 3: फॉर्म भरें

  1. पासबुक सेक्शन में ही आपको क्लेम का विकल्प मिल जाएगा।

  2. अगर आपका आधार कार्ड और बैंक खाता यूएएन से जुड़ा है तो आगे बढ़ें और अपना फॉर्म (फॉर्म 31, 19 और 10 सी) चुनें।

  3. यहां आपसे आवश्यक जानकारी मांगी जाएगी, सभी कॉलम को पूरा भरें

  4. अंत में आपसे पीएफ निकालने का कारण पूछा जाएगा और आप कितनी राशि निकालना चाहते हैं।

  5. पूरा फॉर्म भरने के बाद सबमिट पर क्लिक करें।

Step 4: दावे की प्रतीक्षा करें

  1. फॉर्म जमा करने के बाद, आपको एक पावती संख्या दी जाएगी, और अगले 24 घंटों में आपको सूचित किया जाएगा कि आपका दावा पारित किया गया है या नहीं।

  2. यदि दावा सफल होता है, तो राशि एक सप्ताह के भीतर आपके UAN से जुड़े खाते में जमा कर दी जाएगी।

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको EPF विदड्रॉल से जुड़ी पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। हम इस लेख के अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न अनुभाग में कुछ प्रश्न भी जोड़ रहे हैं जो किसी कर्मचारी के नौकरी छोड़ने के बाद अक्सर उठते हैं। ऐसे ही कुछ प्रश्न निम्नलिखित हैं।

FROM AROUND THE WEB