जब कश्मीरी पंडितों का दर्द फिल्म ‘शिकारा’ देखकर रो पड़े लाल कृष्ण आडवाणी

Lal Krishna Advani
New Delhi: कश्मीरी पंडितों के घाटी से निष्कासन पर बनी फिल्म ‘शिकारा’ देखकर बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) रो पड़े। देश के पूर्व उपप्रधानमंत्री आडवाणी बेटी प्रतिभा के साथ फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग में पहुंचे थे।

कश्मीरी पंडितों के दर्द को देखकर आडवाणी (Lal Krishna Advani) अपने आंसू नहीं रोक पाए। डायरेक्टर विधु विनोद चोपड़ा ने इस भावुक पल का विडियो ट्विटर पर शेयर किया है, जो तेजी से वायरल हो रहा है।

विधु विनोद चोपड़ा फिल्म्स की ओर से ट्वीट में लिखा गया, ‘शिकारा के स्पेशल स्क्रीनिंग में श्री एल.के. आडवाणी। हम आपके आशीर्वाद और तारफी के लिए आभारी हैं।’ विडियो में लिखा गया है कि आडवाणी (Lal Krishna Advani) शिकारा देखने के बाद अपने आंसूओं को नहीं रोक पाए। विडियो में चोपड़ा आडवाणी को संभालते दिख रहे हैं। फिल्म शुक्रवार को रिलीज हुई है।

फिल्म ‘शिकारा’ 1990 में कश्मीरी पंडितों के घाटी से पलायन पर आधारित है। खास बात यह है कि फिल्‍म में 4000 से ज्यादा कश्मीरी पंडित शरणार्थियों ने अभिनय किया है और 1990 के निष्क्रमण के दृश्य को पुनर्जीवित करने की कोशिश की है। एक नेता के तौर पर लाल कृष्ण आडवाणी ने कश्मीरी पंडितों के दर्द को नजदीक से देखा है।

कोर्ट का रोक लगाने से इनकार

इससे पहले शुक्रवार को जम्मू और कश्मीर हाईकोर्ट ने फिल्म की रिलीज पर रोक की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया। जस्टिस ए एम मगरे और डी एस ठाकुर की पीठ ने फिल्म की रिलीज से कानून और व्यवस्था में कोई बाधा नहीं आने की बात कहकर जनहित याचिका को खारिज कर दी।

तीन सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा दाखिल की गई इस याचिका में फिल्म के तथ्यों पर आधारित नहीं होने और सांप्रदायिक होने के आधार पर फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग की गई थी। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि इस फिल्म में 1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन के लिए पूरी कश्मीरी आबादी को दोषी ठहराया गया है।