सुपुर्द-ए-खाक हुए दिलीप कुमार... अभिनेता, नेता और फैंस ने नम आखों से दी अंतिम विदाई

 
सुपुर्द-ए-खाक हुए दिलीप कुमार... अभिनेता, नेता और फैंस ने नम आखों से दी अंतिम विदाई

Newzbox Desk: Dilip Kumar Passes Away: बॉलिवुड के दिग्‍गज ऐक्‍टर दिलीप कुमार सुपुर्द-ए-खाक (Dilip Kumar Last Rites) हो गए हैं। बुधवार शाम करीब 5 बजे सांताक्रूज कब्रिस्‍तान (Santacruz Kabrastan) में उन्‍हें मिट्टी दी गई। इससे पहले खार स्‍थ‍ित उनके घर पर राजकीय सम्‍मान के साथ उनकी अंतिम यात्रा शुरू हुई थी। उनके पार्थ‍िव शरीर को तिरंगे में लपेटकर एम्‍बुलेंस से सांताक्रूज कब्रिस्‍तान ले जाया गया है। 

पार्थ‍िव शरीर को एम्‍बुलेंस पर सवार करने से पहले और कब्रिस्‍तान में मिट्टी देने से पहले गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। दिलीप कुमार की पत्‍नी सायरा बानो भी कब्रिस्‍तान पहुंची थीं। दिलीप साहब की मौत (Dilip Kumar Passes Away) सुबह 7:30 बजे मुंबई के हिंदुजा अस्‍पताल में हुई। वह बीते मंगलवार से ही अस्‍पताल में भर्ती थे।

दिनभर देश की आंखें बॉलिवुड के 'ट्रेजडी किंग' (Tragedy King Dilip Kumar) के यूं चले जाने से डबडबाई रहीं, वहीं उनकी पत्‍नी सायरा बानो का रो-रोकर बुरा हाल रहा। घर के अंदर से जो तस्‍वीरें सामने आईं, उनमें शाहरुख खान रोती-बिलखती सायरा को सहारा देते दिखे। दिलीप कुमार के अंतिम दर्शन के लिए फिल्‍म इंडस्‍ट्री से शाहरुख खान (Shahrukh Khan), अनुपम खेर (Anupam Kher), रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor), विद्या बालन (Vidya Balan) और यहां तक कि महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) भी उनके घर पहुंचे थे।

दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की उम्र 98 साल थी। सांस लेने में तकलीफ के कारण उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती किया गया था। इससे पहले 6 जून को भी वह अस्‍पताल में भर्ती हुए थे और करीब एक हफ्ते बाद ठीक होकर घर लौटे थे। दिलीप साहब का इलाज कर रहे डॉक्‍टर जलील पारकार ने बताया कि उम्र के साथ उनके शरीर में कई तरह की समस्‍याएं शुरू हो गई थीं। उन्‍हें बचाने के लिए डॉक्‍टर्स की टीम ने हर संभव कोश‍िश की। डॉ. पारकर कहते हैं, 'सर्जन, न्‍यूरोलॉजिस्‍ट, कार्डियोलॉजिस्‍ट... हम सब दिलीप कुमार की सेहत की देखरेख में जुड़े हुए थे। हम यही चाहते थे कि वह 100 साल की उम्र पूरी करें। उन जैसा न कोई था, न होगा। ईश्‍वर उनकी आत्‍मा को शांति दे।'

घर के बाहर रोते-बिलखते नजर आए फैन्‍स

अस्‍पताल से बुधवार सुबह करीब 9:30 बजे दिलीप कुमार के पार्थ‍िव शरीर को बाहर निकाला गया। सायरा बानो आंखों में शून्‍य समेटे उनके साथ ही थीं। इसके बाद एम्‍बुलेंस से पार्थ‍िव शरीर को खार स्‍थ‍ित दिलीप कुमार के घर लाया गया। इधर, निधन की खबर पाते ही दिलीप कुमार के घर के बाहर फैन्‍स का जमावड़ा शुरू हो गया था। रोती-बिलखती आंखों के बीच हर चेहरा गमगीन था। दिलीप कुमार के घर पहुंचने वालों में इंडस्‍ट्री से सबसे पहले शबाना आजमी थीं। वह करीब 11 बजे दिलीप कुमार के घर पहुंचीं।

धर्मेंद्र ने खोया साथी, हाथ जोड़कर किए अंतिम दर्शन

दिलीप कुमार बॉलिवुड के उस बुजुर्ग की तरह थे, जिनके साथ होने का एहसास ही आत्‍मविश्‍वास ले आता था। दोपहर 12 बजे विद्या बालन भी अपने पति और प्रड्यूसर सिद्धार्थ रॉय कपूर के साथ दिलीप कुमार के घर पहुंचीं। इसके करीब 15 मिनट बाद ही धर्मेंद्र वहां पहुंचे। मीडिया ने जब धर्मेंद्र का रास्‍ता रोका तो उन्‍होंने गाड़ी का शीशा नीचे किया, कुछ बोले नहीं, बस नम आंखों से हाथ जोड़ा और दिलीप कुमार के घर के अंदर चले गए। धर्मेंद्र और दिलीप कुमार में बहुत अध‍िक स्‍नेह रहा है। ऐसे में सबसे खास साथी के इस तरह चले जाने का गम के आगे लड़खड़ाती जुबान क्‍या ही बोलेगी।

अनुपम खेर, अनिल कपूर, रणबीर कपूर भी पहुंचे

दिलीप कुमार के घर दिनभर बॉलिवुड और राजनीति की दुनिया के लोगों का आना-जाना लगा रहा। अनुपम खेर, करण जौहर, रणबीर कपूर, अनिल कपूर, जॉनी लीवर, रजा मुराद बारी-बारी सभी ने दिलीप साहब के अंतिम दर्शन किए। सायरा बानो को हौंसला दिया। कोई उनके साथ रोया, तो कोई गम में बेसुध बस दिलीप साहब के पार्थ‍िव शरीर को एकटक देखता रहा।

शाहरुख ने पोछे सायरा बानो के आंसू

दोपहर करीब 1 बजे शाहरुख खान भी दिलीप कुमार के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे। शाहरुख का जिक्र यहां अलग से इसलिए भी जरूरी है कि दिलीप कुमार उन्‍हें अपने बेटे की तरह प्‍यार करते थे। दिलीप कुमार और सायरा बानो की कोई संतान नहीं है। दिलीप कुमार ने एक बार शाहरुख के लिए प्‍यार जाहिर करते हुए कहा था कि यदि उनका बेटा होता तो वह शाहरुख जैसा होता। यह आत्‍मीयता बुधवार को भी दिखी। सोशल मीडिया पर घर के अंदर की कुछ तस्‍वीरें सामने आईं। शाहरुख इनमें रोती हुई सायरा बानो को सहारा देते नजर आए।

छगन भुजबल, अमीन पटेल, बाबा सिद्द‍ीकी ने भी किए अंतिम दर्शन

राजनीति की दुनिया से महाराष्‍ट सरकार में मंत्री छगन भुजबल, अमीन पटेल, असलम शेख और बाबा सिद्द‍ीकी भी दिलीप कुमार को श्रद्धांजलि देने पहुंचे। इन सब की दिलीप कुमार से कई यादें जुड़ी हुई हैं। कुछ निजी तो कुछ पर्दे की। इन आंखों में उन्‍हीं यादों की दास्‍तान लालिमा बनकर छलकती रहीं। दिलीप कुमार के साथ भारतीय सिनेमा के एक युग का अंत हो गया है। अमिताभ बच्‍चन ने बुधवार सुबह ट्वीट में लिखा, 'यदि कभी भारतीय सिनेमा का इतिहास लिखा जाएगा तो यह दिलीप कुमार से पहले... और दिलीप कुमार के बाद... लिखा जाएगा। वह खुद में एक संस्‍था थे, जो चले गए। गहरा दुख हुआ।'

आसमां में रौशन होगा जमीं का सितारा

दिलीप कुमार ने भारतीय सिनेमा की दुनिया में 58 साल तक राज किया। 'दाग' से लेकर 'देवदास' और 'मुगल-ए-आजम' से लेकर 'शक्‍त‍ि' और 'सौदागर' तक उन्‍होंने फिल्‍मी दुनिया में एक कलाकार के ऐसे रूप को दिखाया, जैसा अब शायद ही कभी कोई दिखा सके। दिलीप साहब अब जन्‍नत की राह पर हैं। जमीन का ऐसा सितारा जो अब आसमां को रौशन करेगा।

FROM AROUND THE WEB