13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर... यह है PM मोदी की नई टीम

 
13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर... यह है PM मोदी की नई टीम

Newzbox Desk: Modi New Cabinet List: दूसरे कार्यकाल के पहले कैबिनेट विस्‍तार (Modi Cabinet Expansion) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने प्रफेशनल्‍स को अहम जगह दी है। 

नई मंत्रिपरिषद (Modi New Cabinet) में 6 ऐसे मंत्री हैं जो पेशे से डॉक्‍टर हैं। वकालत करने वाले मंत्रियों की संख्‍या सबसे ज्‍यादा (13) है। मोदी की टीम में 7 पूर्व नौकरशाह भी हैं और 6 डॉक्‍टर्स भी। 7 मंत्री ऐसे हैं जिन्‍होंने पीएचडी कर रखी है। 5 इंजिनियर्स हैं जबकि तीन एमबीए डिग्री धारी हैं।

ब्‍यूरोक्रेट्स और टेक्‍नोक्रेट्स पर मोदी (Modi Cabinet Expansion) ने फिर भरोसा दिखाया है। बुधवार शाम को कुल 36 नए चेहरों ने मंत्री पद की शपथ ली जबकि 7 मंत्रियों का कद बढ़ा। कल तक केंद्रीय मंत्री रहे 12 नेता अब सरकार का हिस्‍सा नहीं हैं। कुल मिलाकर राजनीतिक संदेश के लिहाज से यह पिछले कुछ सालों का सबसे बड़ा फेरबदल है।

मोदी की टीम में कितने प्रफेशनल्‍स?

प्रफेशन                मोदी सरकार में मंत्रियों की संख्‍या

वकील                        13
सिविल सर्वेंट्स              7
पीएचडी धारक              7
डॉक्‍टर्स                        6
इंजिनियर्स                   5
MBAs                        3

पूर्व IAS को मिला रेलवे और IT का जिम्‍मा

पीएम मोदी ने रेलवे जैसा अहम मंत्रालय पूर्व IAS अधिकारी अश्विनी वैष्‍णव को दिया है। कैबिनेट फेरबदल में सबसे बड़ी छलांग वैष्‍णव ने ही लगाई है। उनके पास सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय भी रहेगा। 50 साल के वैष्‍णव ओडिशा से राज्‍यसभा सांसद हैं। वह आईआईटी कानपुर से एमटेक और वॉर्टन से एमबीए कर चुके हैं। बतौर आईएएस काम करने से पहले वह GE और सिमंस जैसी मल्‍टीनैशनल्‍स में भी काम कर चुके हैं। फिर उन्‍होंने अपना कारोबार करने की सोची और बाद में राजनीति की तरफ आ गए।

मोदी की टीम के कुछ चर्चित प्रफेशनल्‍स

वैष्‍णव की तरह बिहार से आने वाले जेडीयू नेता आरसीपी सिंह भी पहले आईएएस रहे हैं। वह स्‍टील मंत्रालय संभालेंगे। ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को नागरिक उड्डयन मंत्रालय दिया गया है। सिंधिया ने स्‍टैनफर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए कर रखा है। राज्‍य मंत्री बनाए गए राजीव चंद्रशेखर के पास एमटेक की डिग्री है, वह हार्वर्ड से ऐडवांस्‍ड मैनेजमेंट प्रोग्राम भी पूरा क‍र चुके हैं। राज्‍य मंत्री बने भगवंत खूबा के पास भी मेकेनिकल इंजिनियरिंग में बीटेक की डिग्री है।

पश्चिम बंगाल के बांकुरा से पहली बार सांसद बने सुभाष सरकार के एक गायनकोलॉजिस्‍ट हैं। महाराष्‍ट्र से पहली बार राज्‍यसभा सांसद बनकर पहुंचे भागवत किशनराव भी पेशे से डॉक्‍टर हैं। उनके पास एमबीबीएस और सर्जरी से जुड़ी तीन डिग्रियां हैं। गुजरात के आने वाले महेंद्र मुंजपारा तीन दशक से भी ज्‍यादा समय से कार्डियोलॉजिस्‍ट हैं। स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री बनाई गईं भारती प्रवीण पवार भी राजनीति में आने से पहले डॉक्‍टर थीं।

नई मंत्रिपरिषद में वकीलों की फौज

विदेश, संस्‍कृति मंत्रालय में राज्‍य मंत्री बनाई गईं मीनाक्षी लेखी सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करती हैं। असम के मुख्‍यमंत्री रहे सर्वानंद सोनोवाल के पास भी एलएलबी की डिग्री है। उनके पास आयुष मंत्रालय के अलावा जहाजरानी मंत्रालय होगा। एल मुरुगन भी मद्रास हाई कोर्ट में 15 साल तक वकील रहे। भूपेंद्र यादव के पास भी वकालत की डिग्री है। उत्‍तराखंड से आए अजय भट्ट के अलवा सत्‍य पाल सिंह बघेल और भानु प्रताप सिंह वर्मा भी वकील हैं।

FROM AROUND THE WEB