तौकते के बाद चक्रवाती तूफान यास का खतरा, जानिए किन राज्यों में होगा असर

तौकते तूफान की तबाही के निशान अभी मिटे भी नहीं हैं कि देश पर एक और चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yass) का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार, अंडमान और बंगाल की खाड़ी कम दबाल का क्षेत्र बन रहा है।
 
 तौकते के बाद चक्रवाती तूफान यास का खतरा, जानिए किन राज्यों में होगा असर

नई दिल्ली। तौकते तूफान की तबाही के निशान अभी मिटे भी नहीं हैं कि देश पर एक और चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yass) का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार, अंडमान और बंगाल की खाड़ी कम दबाल का क्षेत्र बन रहा है। यह 22 मई से हरकत में आएगा और चक्रवाती तूफान का रूप धारण करने के बाद 26 मई की शाम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचा सकता है। दोनों राज्यों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो सकती है। 

तौकते तूफान की तबाही देखते हुए चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yass) को लेकर भी अभी से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इस चक्रवाती तूफान को यास नाम दिया गया है। इसे अंडमान भी कहा जा रहा है। इसकी गति अम्फान के बराबर हो सकती है।

ओमान ने नाम दिया है नाम यास

बंगाल की खाड़ी में यदि अगले कुछ दिनों में समुद्री तूफान आकार ले लेता है तो उसे चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yass) नाम से जाना जाएगा। यह नाम ओमान ने दिया है। फारसी भाषा में Yaas का अर्थ जहां चमेली का फूल होता है, वहीं उर्दू में निराशावाद कहते हैं। यह साल 2021 का दूसरा चक्रवाती तूफान होगा।

मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए बताया है कि बंगाल की खाड़ी में हवा के दबाव से 22 मई या उसके बाद जो स्थितियां पैदा होंगी वे अगले 72 घंटों में चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yass) का रूप ले सकती हैं। दक्षिण पूर्वी मानसून 21 मई तक दक्षिण अंडमान सागर और दक्षिण बंगाल की खाड़ी में पहुंचने वाला है। 

इन दोनों घटनाओं के अलावा मौसम संबंधी कुछ अन्य परिवर्तनों से 22 मई को पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी और उत्तरी अंडमान सागर में निम्न वायु दाब की स्थिति बन रही है। इसके प्रभाव से अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में 22 से 23 मई के बीच हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। वहीं कुछ स्थानों बहुत तेज बारिश की संभावना है।

FROM AROUND THE WEB