पिता की जयंती पर बोले चिराग पासवान, शेर का बेटा हूं, किसी के आगे नहीं झुकूंगा

पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan death anniversary) की आज जयंती है। उनके बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने दिल्ली स्थित पार्टी के केंद्रीय कार्यालय 12 जनपथ में अपने पिता रामविलास पासवान की जयंती के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
 
 
पिता की जयंती पर बोले चिराग पासवान, शेर का बेटा हूं, किसी के आगे नहीं झुकूंगा

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan death anniversary) की आज जयंती है। दिल्ली से लेकर बिहार के अलग-अलग जिलों में उनकी जयंती पर पार्टी में जारी विवाद के बीच दोनों गुट अलग-अलग तरीके से रामविलास पासवान की जयंती मना रहे हैं। जमुई से सांसद और रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने दिल्ली स्थित पार्टी के केंद्रीय कार्यालय 12 जनपथ में अपने पिता रामविलास पासवान की जयंती के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि वह शेर के बेटे हैं और झुकने वाले नहीं हैं।

पिता (Ram Vilas Paswan death anniversary) को याद करते हुए इस दौरान चिराग (Chirag Paswan) काफी भावुक हो गए। उन्होंने अपनी मां का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। चिराग ने कहा कि जब मुझे परिवार की सबसे ज्यादा जरूरत थी उस वक्त परिवार का कोई भी शख्स मेरे साथ नहीं है लेकिन मैं झुकने वाला नहीं मैं शेर का बेटा हूं और जनता के आशीर्वाद के लिए निकल रहा हूं। 

इस अवसर पर उनके आवास 12 जनपथ में रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan death anniversary) के जीवन पर वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप श्रीवास्तव द्वारा लिखी गई पुस्तक संकल्प साहस और संघर्ष का लोकार्पण भी उनकी पत्नी रीना पासवान ने किया। इस मौके पर चिराग पासवान (Chirag Paswan) भी मौजूद थे।

चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने मोहन भागवत के बयान पर कहा कि हमारी सोच पहले से ही न जात न पात वाली रही है। मैं 21वीं सदी का पढ़ा-लिखा युवक हूं। मैं नहीं मानता ये जात-पात मजहब। मैं जिस प्रदेश से आता हूं वहाँ एक राजनीतिक समीकरण बैठाने का प्रयास किया जाता है जातियों के आधार पर, धर्म के आधार पर, ये गलत है। इसीलिए मैं कहता हूँ कि जाति-धर्म से ऊपर उठकर विकास पर बात करने की ज़रूरत है।

दोपहर में दिल्ली से पटना पहुंचने के बाद चिराग पासवान (Chirag Paswan) हाजीपुर से अपनी आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत करेंगे। चिराग ने हाजीपुर से आशीर्वाद यात्रा के पीछे दो वजह है। पहली वजह इस सीट से लंबे समय तक उनके पिता रामविलास पासवान का प्रतिनिधित्व करना और दूसरी वजह चाचा से बागी बनकर पार्टी को तोड़ चुके पारस पासवान का यहां से सांसद होना है। चिराग चाचा के घर में घुसकर पिता की संवेदना को साथ रखते हुए हमला करना चाहते हैं।

FROM AROUND THE WEB