मोदी कैबिनेट विस्तार पर कांग्रेस बोली- जो ट्विटर पर राहुल गांधी को गाली देगा, उसे प्रमोशन मिलेगा

 
मोदी कैबिनेट विस्तार पर कांग्रेस बोली- जो ट्विटर पर राहुल गांधी को गाली देगा, उसे प्रमोशन मिलेगा

Newzbox Desk: कांग्रेस (Congress News) ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मोदी सरकार (Modi Govt) को घेरा है। केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल (Cabinet Reshuffle) से पहले राज्यपालों के बदलाव पर खेड़ा ने कहा कि क्या किसी ऐसे राज्यपाल को हटाया गया, जिस पर संविधान के साथ खिलवाड़ के गंभीर आरोप लगे हों। इसमें बंगाल के राज्यपाल, राजस्थान और पुद्दुचेरी के राज्यपाल शामिल हैं, लेकिन इनको नहीं हटाया गया और न ही बदला गया। ऐसा ही बदलाव केंद्रीय मंत्रिमंडल का भी होगा, जो ट्विटर पर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को गाली देगा उसका प्रमोशन होगा।

कई राज्यों में बदले गए राज्यपाल

बता दें कि  देश के कुछ राज्यपालों को ट्रांसफर करके दूसरी जगह भेजा गया है, जबकि कुछ जगह नई नियुक्तियां की गई हैं। केंद्रीय मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। मिजोरम के राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्‍लै को गोवा का राज्यपाल बनाया गया है। 

डॉ। हरिबाबू कंभमपति को मिजोरम का राज्‍यपाल बनाया गया है। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा ट्रांसफर किया गया है। बंडारू दत्‍तात्रेय को हिमाचल प्रदेश से ट्रांसफर करके हरियाणा का राज्‍यपाल बनाया गया है। त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस को अब झारखंड का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। मध्य प्रदेश में मंगूभाई छगनभाई पटेल को राज्यपाल नियुक्त किया गया है वहीं हिमाचल प्रदेश में राजेंद्र विश्वनाथ को राज्यपाल बनाया गया है।

मोहन भागवत से पूछा ये सवाल

इसके साथ पवन खेड़ा ने राजस्थान के एक गंभीर मामले को भी उठाया। उन्होंने कहा कि पिछले महीने मैंने आपके जरिए देश के समक्ष कुछ सबूत पेश किए थे और खुलासे किए थे। कुछ ऑडियो और वीडियो साझा किए थे। जिसमें आरएसएस की असलियत स्पष्ट तौर पर देखी जा रही है। ठीक उसी समय मैंने आपसे राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा दर्ज एफआईआर की सूचना भी साझा की थी। 

इस मामले में आरएसएस के राजस्थान के क्षेत्रीय प्रचारक निंबा राम, भाजपा के नेता और निलंबित मेयर के पति राजा राम और अन्य के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा स्वत: संज्ञान लिया गया था और प्राथमिक जांच भी बिठाई गई थी। जिसके तहत उक्त वीडियो, ऑडियो और तमाम फाइलें थीं।  उन पर गंभीर आरोप हैं। हम ये पूछना चाहते हैं कि मोहन भागवत लगातार बड़ी बड़ी बातें करते हैं। हमारी संस्कृति और सभ्यता के बारे में। आपने निंबा राम के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की।

FROM AROUND THE WEB