कोरोना से देश में हाहाकार, एक दिन में इन 4 राज्यों में टूटे रिकॉर्ड, पहली लहर से भी ज्यादा केस

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने तेज रफ्तार पकड़ ली है। पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना (Covid second wave India) संक्रमण के 1.15 लाख नए मामले सामने आए हैं।
 
कोरोना से देश में हाहाकार, एक दिन में इन 4 राज्यों में टूटे रिकॉर्ड, पहली लहर से भी ज्यादा केस

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने तेज रफ्तार पकड़ ली है। पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना (Covid second wave India) संक्रमण के 1.15 लाख नए मामले सामने आए हैं। यह इस साल दैनिक आंकड़ों में अब तक का सबसे बड़ा उछाल है। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात और छत्तीसगढ़ में पिछले सारे रिकॉर्ड टूट गए हैं। पंजाब में भी पिछला रिकॉर्ड टूटने के करीब है।

बुधवार सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना (Covid second wave India) के 1,15,736 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,28,01,785 पहुंच गई हैं। वहीं, 630 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1,66,177 हो गई है।

इससे पहले रविवार को एक दिन में 1,03,764 नए मामले थे जो अब तक की दूसरी सबसे अधिक संख्या है। कोरोना (Covid second wave India) की पहली लहर में एक दिन में मिले नए मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या 97,894 थी, जिसे 17 सितंबर 2020 को दर्ज किया गया था। पिछले 24 घंटे में 630 कोरोना मरीजों की मौत के बाद महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 1,66,207 हो गई।

4 राज्यों में हालात चिंताजनक

केंद्र सरकार के अनुसार, महाराष्ट्र, पंजाब और छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा चिंता का कारण है क्योंकि वहां प्रतिदिन बड़ी संख्या में कोरोना (Covid second wave India) के मामले सामने आ रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति कुल मामलों में और साथ ही होने वाली मौतों में राज्य की हिस्सेदारी के चलते चिंताजनक है। पंजाब और छत्तीसगढ़ की स्थिति मरने वाले मरीजों की अधिक संख्या के चलते चिंताजनक है।

भूषण ने कहा कि छत्तीसगढ़ का दुर्ग टॉप-10 जिलों में शामिल है जहां कोरोना (Covid second wave India) के उपचाराधीन मामले अधिक हैं। नए मामलों के सबसे अधिक संख्या वाले 10 जिले पुणे, मुंबई, ठाणे, नागपुर, नासिक, बेंगलुरु शहर, औरंगाबाद, अहमदनगर, दिल्ली और दुर्ग हैं। राज्यों को आरटी-पीसीआर जांच की दर बढ़ाने के लिए कहा गया है।

FROM AROUND THE WEB