कोरोना की दूसरी लहर ने तोड़े रिकॉर्ड, एक दिन में सामने आए 53 हजार से ज्यादा नए केस

भारत में कोरोनावायरस (Covid-19 India) की दूसरी लहर ने सरकार के साथ एक बार फिर से लोगों को परेशान कर दिया हे। इन सबके बीच वायरस के नए स्ट्रेन का पता चलने से हालात फिर बिगड़ते दिख रहे हैं।
 
कोरोना की दूसरी लहर ने तोड़े रिकॉर्ड, एक दिन में सामने आए 53 हजार से ज्यादा नए केस

नई दिल्ली। भारत में कोरोनावायरस (Covid-19 India) की दूसरी लहर ने सरकार के साथ एक बार फिर से लोगों को परेशान कर दिया हे। इन सबके बीच वायरस के नए स्ट्रेन का पता चलने से हालात फिर बिगड़ते दिख रहे हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली, पंजाब, गुजरात सहित कई राज्यों में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से गुरुवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों में 53,476 नए कोरोनावायरस  (Covid-19 India) के मामले सामने आए हैं। चिंताजनक रूप से यह पिछले साल अक्टूबर के बाद से एक दिन में दर्ज किए गए मामलों के बाद सबसे ज्यादा संख्या है।

क्या कहते हैं आज के आंकड़े

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए जाने वाले दैनिक कोरोनावायरस  (Covid-19 India) बुलेटिन के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में 53,476 नए मामलों ने देशव्यापी आंकड़ों को 1.17 करोड़ तक पहुंचा दिया है। नए संक्रमणों के अलावा, 26,490 लोग पिछले 24 घंटे में ठीक हुए हैं, जिससे देश में कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्‍या 1.12 करोड़ हो गई है।

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटों में 251 लोगों की इस दौरान मौत हुई। इससे मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 1.60 लाख पहुंच गई है। इस दौरान देश में एक्टिव मामलों की कुल संख्या 3.95 लाख है।

टेस्टिंग भी बड़ी

दूसरी तरफ भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने बताया है कि देश भर में कल कोरोनावायरस (Covid-19 India)  के लिए 10.65 लाख नमूनों का टेस्ट किए गए। 24 मार्च तक देश में कुल 23.75 करोड़ कोरोनावायरस टेस्ट किए जा चुके हैं। वहीं अब तक देश में 5.31 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाया जा चुका हे। 

कोरोना  (Covid-19 India) के कारण सबसे बुरा हाल महाराष्ट्र का है, जहां कल अकेले 31,855 नए कोरोना वायरस मामले सामने आए हैं। बता दें कि महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ और गुजरात में नए कोरोना के मरीज बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। देशभर में सामने आ रहे नए मामलों में से 77.44 प्रतिशत इन्हीं राज्यों से हैं।

FROM AROUND THE WEB