मोदी सरकार पर पूर्व PM मनमोहन सिंह का निशाना, पेट्रोल-डीजल की कीमतों और रोजगार के मुद्दे पर घेरा

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने शुक्रवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों और बेरोजगारी के मसले पर मोदी सरकार पर निशाना साधा है।
 
मोदी सरकार पर पूर्व PM मनमोहन सिंह का निशाना, पेट्रोल-डीजल की कीमतों और रोजगार के मुद्दे पर घेरा

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने शुक्रवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों और बेरोजगारी के मसले पर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। तीन दशकों तक राज्यसभा में असम का प्रतिनिधित्व करने वाले डॉ. मनमोहन सिंह ने बीजेपी पर लोगों को धर्म और भाषा के नाम पर बांटने का भी आरोप लगाया। असम विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उन्होंने असम की जनता से विकास के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाले 'महाजोत' (महागठबंधन) के पक्ष में मतदान करने की अपील की।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने एक वीडियो मैसेज में कहा कि कई सालों तक असम मेरा दूसरा घर रहा है। यह मेरा सौभाग्य रहा कि मैंने राज्यसभा में असम का 28 सालों तक प्रतिनिधित्व किया। मैं असम के लोगों के स्नेह और समर्थन के लिए उनका आभारी हूं।


डॉ. मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने कहा कि असम के लोगों ने मुझे पांच साल तक देश के वित्त मंत्री और 10 साल तक प्रधानमंत्री के तौर पर देश की सेवा का मौका दिया। आज समय आ गया है कि इस विधानसभा चुनाव में लोग समझदारी के साथ मतदान करें।

पूर्व प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि असम के लोगों ने लंबे समय तक उग्रवाद और अशांति को झेला है। तरुण गोगोई की अगुवाई में असम ने शांति और विकास की दिशा में कदम बढ़ाया। अब वहां पर समाज को धर्म, भाषा और संस्कृति के आधार पर बांटा जा रहा है। लोगों को उनके बुनियादी अधिकारों से वंचित किया जा रहा है।

बीजेपी का नाम लिए बगैर डॉ. मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने कहा कि नोटबंदी और गलत ढंग से जीएसटी लागू करने से अर्थव्यवस्था कमजोर हो गई है। युवा रोजगार के लिए परेशान हैं। पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी से आम आदमी परेशान है। गरीब और गरीब हो रहे हैं। कोविड के संकट ने लोगों के लिए और भी मुश्किल पैदा कर दी है।

असम की जनता का आह्वान करते हुए डॉ. मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने कहा कि आपको एक ऐसी सरकार के लिए वोट करना चाहिए जो संविधान और लोकतंत्र के सिद्धांतों को बरकरार रखे, हर नागरिक की परवाह करे और समावेशी विकास करे। असम में कांग्रेस उसकी भाषा, इतिहास और संस्कृति की रक्षा करने और विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने असम में सीएए को लागू नहीं करने समेत कांग्रेस के पांच प्रमुख वादों का जिक्र करते हुए कहा कि लोगों को कांग्रेस की अगुवाई वाले गठबंधन के पक्ष में मतदान करना चाहिए।

FROM AROUND THE WEB