कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, शोपियां में LeT के 4 आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के शोपियां (Kashmir Encounter Today) में सुरक्षाबलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए लश्कर के 4 आतंकियों को मार गिराया है। कश्मीर पुलिस (J&K Police) के मुताबिक, कई घंटों तक चली मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों के बाद चारों आतंकियों को न्यूट्रलाइज किया गया।
 
कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, शोपियां में LeT के 4 आतंकी ढेर

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के शोपियां (Kashmir Encounter Today) में सुरक्षाबलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए लश्कर के 4 आतंकियों को मार गिराया है। कश्मीर पुलिस (J&K Police) के मुताबिक, कई घंटों तक चली मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों के बाद चारों आतंकियों को न्यूट्रलाइज किया गया। इस पूरे ऑपरेशन में एक जवान के भी घायल होने की खबर है।

कश्मीर पुलिस के मुताबिक, शोपियां के मुनिहाल में हुई इस मुठभेड़ (Kashmir Encounter Today)  के दौरान सुरक्षाबलों ने 4 आतंकियों को मार गिराया है। मारे गए चारों आतंकी लश्कर ए तैयबा से जुड़े थे। आतंकियों के पास से एक AK47 और 2 पिस्तौल बरामद हुई हैं। 


शोपियां में मारा गया था लश्कर कमांडर

बता दें कि हाल ही में दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिले के रावलपोरा में तीन दिनों तक चली हुई मुठभेड़ (Kashmir Encounter Today)  में दो आतंकवादी को मार गिराया गया था। इनमें से मारा गया एक आतंकी लश्कर का पूर्व कमांडर था। विलायत उर्फ सज्जाद अफगानी शोपियां के रावलपोरा इलाके का रहने वाला था और वो साल 2018 में आतंकवादी बना था। पहले वो लश्कर के साथ इस पूरे क्षेत्र में कमान संभाल रहा था, लेकिन बाद में अफगानी ने लश्कर से नाता तोड़ लिया और जैश-ए-मोहम्मद के संगठन में शामिल हो गया।

कश्मीर पुलिस (J&K Police) के मुताबिक, विलायत उर्फ सज्जाद ए प्लस कैटेगरी का कमांडर था और काफी समय से सक्रिय रहने के कारण इस पर सुरक्षा एजेंसियों की पैनी नजर भी थी। साथ ही ये भी बताया जा रहा है कि सज्जाद 2018 के बाद से पाकिस्तान मूल के आतंकी संगठनों के लिए कैडर और लॉजिस्टिक सपोर्ट करने में भी शामिल था। विलायत उर्फ सज्जाद अफगानी को जैश का डिस्ट्रिक्ट कमांडर तब बनाया गया जब उसने लश्कर को एक आम आतंकवादी होने की हैसियत से छोड़ दिया था और जैश के लिए अफगानी नए आतंकवादियों की भर्ती का मुख्य कैडर भी था।

आतंकी संगठनों को बड़ा झटका

सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक अफगानी इस क्षेत्र में विशेषकर शोपियां में 2018 के बाद सबसे लंबे समय तक छुप के जीने वाला आतंकवादी भी था और इसका मारा जाना जैश जैसे फिदायीन एक्सपर्ट रखने वाले आतंकवादी संगठन के लिए बड़ा झटका है। इससे पहले शनिवार को शोपियां के रावलपोरा में 20 घंटे के कॉर्डन और सर्च ऑपरेशन के बाद शुरू हुई मुठभेड़ में पहले ही दिन सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को मार गिराया था, जिसकी पहचान जहांगीर अहमद वानी निवासी शोपियां के तौर पर हुई थी।

FROM AROUND THE WEB