ICMR का दावा-कोविशील्ड की पहली डोज कोवैक्सीन से ज्यादा प्रभावी, बनती हैं ज्यादा एंटीबॉडी

पहले जहां 6 से 8 सप्ताह के अंतराल के बाद कोवीशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) की दूसरी डोज दे दी जाती थी वहीं इसे बढ़ाकर अब 12 से 16 सप्ताह कर दिया गया है। 
 
 ICMR का दावा-कोविशील्ड की पहली डोज कोवैक्सीन से ज्यादा प्रभावी, बनती हैं ज्यादा एंटीबॉडी

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से निपटने के लिए देशभर में वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। लेकिन वैक्सीन की कमी की वजह से इसकी रफ्तार भी धीमी है। पहले जहां 6 से 8 सप्ताह के अंतराल के बाद कोवीशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) की दूसरी डोज दे दी जाती थी वहीं इसे बढ़ाकर अब 12 से 16 सप्ताह कर दिया गया है। 

सरकार के इस कदम का बचाव करते हुए भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा है कि कोवीशील्ड (Covishield Vaccine) की दो डोज के बीच इसलिए समय बढ़ाई गई क्योंकि इसकी पहली खुराक से ही मजबूत इम्यूनिटी बन रही है।

उन्होंने कहा है कि कोविशील्ड (Covishield Vaccine) की दो खुराक के बीच के अंतराल को बढ़ाक र 12-18 सप्ताह कर दिया गया है क्योंकि पहली खुराक में मजबूत इम्यूनिटी बनी है। उन्होंने कहा कि कोवैक्सीन के दोनों डोज के बीच के अंतराल में कोई बदलाव इसलिए नहीं किया गया है कि क्योंकि पहली खुराक के बाद इम्यूनिटी, कोवीशील्ड के मुकाबले तेजी से विकसित नहीं होती। कोवैक्सीन की दो डोज के बीच चार से छह सप्ताह का निश्चित है।

समितियों की सिफारिशों के बाद अंतराल को बढ़ाया गया

बलराम भार्गव ने कहा कि कोवीशील्ड (Covishield Vaccine) की दो डोज के बीच तीन महीने का अंतर अच्छा परिणाम देगा। भार्गव ने दावा किया कि कोवैक्सीन की पहली खुराक के बाद इम्यूनिटी का लेवल उतना अधिक नहीं है। इसका मतलब है कि दूसरी डोज चार हफ्ते बाद ली जानी चाहिए ताकि पूरा असर सुनिश्चित हो सके। वहीं कोवीशील्ड की पहली डोज कोवैक्सीन के मुकाबले ज्यादा असरदार है और इसमें पहली डोज के बाद एंटीबॉडी का लेवल बहुत बढ़ जाता है।

भार्गव ने कहा- टीका पहली बार 15 दिसंबर को आया था। हम बहुत नए हैं और सीख रहे हैं। परीक्षण अभी भी जारी हैं। यह ईवाल्विंग साइंस है, कोवैक्सीन की पहली खुराक देने से आपको ज्यादा एंटीबॉडी नहीं मिलती। आप इसे दूसरी खुराक के बाद हासिल कर पाते हैं। कोवीशील्ड (Covishield Vaccine) में पहले खुराक के दौरान ही एंटीबॉडी अच्छे स्तर पर मिल जाती है। भार्गव ने कहा कि कोवीशील्ड की दो डोज के बीच गैप को तीन समितियों कोरोना वर्किंग ग्रुप, कोरोना पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समिति और नेशनल टेक्नीकल एडवाइजरी ग्रुप की सिफारिशों के बाद बढ़ाया गया है।

FROM AROUND THE WEB