दिल्ली में दिखा तौकते चक्रवात का असर, प्रचंड गर्मी के मौसम में हुई सावन जैसी बारिश

कोरोना संकट के बीच देश के कई राज्यों में तबाही मचा रहे चक्रवाती तूफान तौकते (Taukate Cyclone Delhi) का असर राजधानी दिल्ली में देखने को मिल रहा है। प्रचंड गर्मी वाले मई के महीने में बुधवार को पूरा दिन बारिश होती रही जिससे सावन के महीने का एहसास हो रहा है। 
 
 दिल्ली में दिखा तौकते चक्रवात का असर, प्रचंड गर्मी के मौसम में हुई सावन जैसी बारिश

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच देश के कई राज्यों में तबाही मचा रहे चक्रवाती तूफान तौकते (Taukate Cyclone Delhi) का असर राजधानी दिल्ली में देखने को मिल रहा है। प्रचंड गर्मी वाले मई के महीने में बुधवार को पूरा दिन बारिश होती रही जिससे सावन के महीने का एहसास हो रहा है। 

मौसम विभाग के मुताबिक, दिन का तापमान सामान्य से 11 डिग्री नीचे खिसक गया। अभी इसमें और गिरावट आने का आसार है क्योंकि अभी गुरुवार को भी तौकते चक्रवात का असर रहेगा। शुक्रवार को राहत मिलने की उम्मीद है। मौसम में बदलाव पिछले 3 दिनों से बना हुआ है। तौकते तूफान (Taukate Cyclone Delhi) के कारण आसमान में बादलों का जमावड़ा बना रहा।


मौसम विभाग के अनुसार, गुजरात व महाराष्ट्र से लगभग 1 हजार किलोमीटर दूर तक पहुंचने में तौकते तूफान (Taukate Cyclone Delhi) तो कमजोर हो गया, लेकिन हवा का कम दबाव बना रहा। बुधवार को सुबह से बारिश शुरू हुई तो दिनभर चलती ही रही। कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश से पारा लुढ़क गया। निजी अंतरराष्ट्रीय मौसम वेबसाइटों पर तो दोपहर में दिन का तापमान 22 डिग्री के करीब दिखा रहा था। इससे लोगों को अपने घरों में एसी, कूलर व पंखा तक बंद करना पड़ गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बुधवार को दिल्ली में ऑरेंज अलर्ट जारी किया।

आईएमडी के मुताबिक, चक्रवाती तूफान तौकते (Taukate Cyclone Delhi) के अवशेष और पश्चिमी विक्षोभ के सम्पर्क के कारण कुछ इलाकों में भारी से बेहद भारी बारिश हुई है। गौरतलब है कि 15 मिमी से कम बारिश को हल्की, 15 मिमी से 64.5 मिमी के बीच को मध्यम, 64.5 मिमी से 115.5 मिमी के बीच भारी, 115.5 मिमी से 204.4 मिमी के भी बेहद भारी श्रेणी में माना जाता है। 204.4 मिमी से अधिक बारिश को बेहद भारी बारिश श्रेणी में माना जाता है। आईएमडी ने कहा कि गुरुवार को बारिश के थोड़ा कम होने का अनुमान है।

आईएमडी के अनुसार, बारिश और तेज हवाओं के चलते बुधवार को अधिकतम तापमान 30.8 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, पिछले 4 साल में मई में दर्ज किया गया यह सबसे कम अधिकतम तापमान है। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, सुबह 8 बजकर 5 मिनट पर वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 84 रहा और दिल्ली की हवा की गुणवत्ता संतोषजनक श्रेणी में दर्ज की गयी। 

FROM AROUND THE WEB