नितिन गडकरी का दावा, अगले 3 साल में भारत की सड़कें यूरोपीय देशों जैसी चकाचक होंगी

जल्द ही भारत की सड़कें (Indian roads) यूरोपीय देशों की तरह चकाचक होने वाली हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने दावा किया कि अगले तीन साल में भारत की सड़कें भी अमेरिका और यूरोपियन देशों जैसी हो जाएंगी।
 
नितिन गडकरी का दावा, अगले 3 साल में भारत की सड़कें यूरोपीय देशों जैसी चकाचक होंगी

नई दिल्ली। जल्द ही भारत की सड़कें (Indian roads) यूरोपीय देशों की तरह चकाचक होने वाली हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने दावा किया कि अगले तीन साल में भारत की सड़कें भी अमेरिका और यूरोपियन देशों जैसी हो जाएंगी। दरअसल, सीआईआई द्वारा दिल्ली में आयोजित इंडिया इकनॉमिक कॉनक्लेव 2021 में केंद्रीय मंत्री गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने कहा कि इस बार मोदी सरकार के अपना कार्यकाल पूरा होने तक भारत की सड़कें (Indian roads) अमेरिका और अन्य यूरोपियन देशों जैसी हो जाएंगी। 

गडकरी ने कहा कि केंद्र सरकार हर रोज 35 किलोमीटर सड़क बना रही है। जल्द ही हर रोज 40 किलोमीटर सड़क बनाने का लक्ष्य भी पूरा किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के बाद भी सरकार ने टोल कलेक्शन में 10 हजार करोड़ रुपए की बढ़ोतरी दर्ज की है।

सड़कों के निर्माण में लाएंगे तेजी

केंद्रीय सड़क, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) अगले पांच साल में एक लाख करोड़ रुपए जुटाने की योजना पर काम कर रहा है। यह पैसे शेयर बाजारों से जुटाए जाएंगे। उन्होंने इडस्ट्रीज से इस मामले में आगे आने और निवेश कर इसका लाभ उठाने को कहा। इससे वृद्धि को गति मिलेगी तथा फंड का उपयोग मजबूत ढांचागत सुविधाओं के वित्त पोषण में किया जा सकता है।

टोल प्लाजा को बिक्री या पट्‌टे पर देकर जुटाई जाएगी रकम

उद्योग मंडल सीआईआई के 'सड़क बुनयादी ढांचा-मांग सृजन: वृद्धि को गति' विषय पर आयोजित सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने कहा कि एनएचएआई (NHAI) अगले पांच साल में टोल कलेक्शन ऑपरेशन और ट्रांसफर (टीओटी) के जरिये सड़कों को बाजार पर चढ़ाकर एक लाख करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रहा है। मंत्री ने कहा कि संपत्ति को बाजार पर चढ़ाना (बिक्री या उसे पट्टे पर देना) उद्योगों के लिए कारोबार के लिहाज से एक अच्छा अवसर है। साथ ही, यह कदम सरकार को भी बुनियादी ढांचा में किए गये निवेश के मूल्य को निकालने में मददगार होगा।

FROM AROUND THE WEB