भारत-पाकिस्तान के बीच शुरू हुई ऐतिहासिक वार्ता, सिंधु जल बंटवारे पर होगी बातचीत

भारत और पाकिस्तान (India-Pakistan bilateral talk) के बीच बातचीत की शुरूआत आज से हो रही है। दिल्ली में सिंधु जल (Sindhu Jal Sandhi) बंटवारे को लेकर स्थाई आयोग की दो दिवसीय बैठक आज से होगी।
 
भारत-पाकिस्तान के बीच शुरू हुई ऐतिहासिक वार्ता, सिंधु जल बंटवारे पर होगी बातचीत

नई दिल्ली। तकरीबन ढाई साल के अंतराल के बाद आखिरकार भारत और पाकिस्तान (India-Pakistan Bilitteral Talk) के बीच बातचीत की शुरूआत आज से हो रही है। दिल्ली में सिंधु जल (Sindhu Jal Sandhi) बंटवारे को लेकर स्थाई आयोग की दो दिवसीय बैठक आज से होगी। बता दें कि भारत और पाकिस्तान ने 1960 की जल संधि (Sindhu Jal Sandhi) के बाद स्थाई सिंधु आयोग का गठन किया था। इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान की ओर से 7 सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल सोमवार को दिल्ली पहुंच गया था।

क्या है सिंधु जल बंटवारा

भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 की जल संधि के तहत स्थायी सिंधु आयोग की स्थापना की गई थी। दिल्ली में हो रही यह बैठक 23 और 24 मार्च को आयोजित की जा रही है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने कहा कि बैठक संधि (Sindhu Jal Sandhi) के अनुसार इस आयोग की साल में कम से कम एक बार बैठक कराने की बात तय की गई थी, लेकिन पुलवामा हमले के बाद से दोनों ही देशों के बीच खटास आ गई थी।


इन मुद्दों पर होगी चर्चा

सिंधु जल आयोग की जिम्मेदारी दोनों देशों के बीच सिंधु नदी और उसकी सहायक नदियों के पानी के ठीक प्रकार से बंटवारे की निगरानी करना है। आयोग की इस बैठक (Sindhu Jal Sandhi) में पाकिस्तान, भारत की पाकल दुल और लोवर कलनई हाइड्रो इलेक्टि्रक प्लांट की डिजाइन पर आपत्ति व्यक्त करेगा। 

माना जा रहा है कि मंगलवार से जल बंटवारे (Sindhu Jal Sandhi) पर बातचीत का दौर शुरू होने से दोनों देशों के रिश्तों पर जमी बर्फ धीरे-धीरे पिघलनी शुरू होने की संभावना है, हालांकि दोनों देशों की सरकारें पिछले कुछ हफ्तों से संबंध सामान्य बनाने के प्रयास कर रही हैं। सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए युद्ध विराम का उल्लंघन न करने पर बनी सहमति दोनों देशों की ओर से एक सार्थ कदम है।

FROM AROUND THE WEB