मोदी सरकार ने बनाया 'Ministry of Co-operation', जानें क्‍या काम करेगा नया मंत्रालय

 
मोदी सरकार ने बनाया 'Ministry of Co-operation', जानें क्‍या काम करेगा नया मंत्रालय

NewzBox Desk: Modi govt New Ministry: नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Govt) आज मंत्रिमंडल विस्तार (Modi Cabinet expension) के साथ ही एक नए मंत्रालय की घोषणा कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक नया मंत्रालय मिनिस्ट्री ऑफ को-ऑपरेशन (Ministry of Co-operation) होगा। इस नए मंत्रालय के जरिए सरकार ने सहकार से समृद्धि का लक्ष्य रखा है।

यह मिनिस्ट्री (Ministry of Co-operation) एक अलग एडमिनिस्ट्रेटिव, लीगल और पॉलिसी फ्रेमवर्क मुहैया कराएगी, जो देश में कोऑपरेटिव से जुड़े कामों में मदद करेगी। यह मिनिस्ट्री ईज ऑफ डुइंग बिजनेस के लिए भी जरूरी सहयोग मुहैया कराएगी।

जमीन से जुड़े लोगों तक सहयोग पहुंचाने का काम 

सूत्रों ने बताया कि नई मिनिस्ट्री (Ministry of Co-operation) जमीन से जुड़े लोगों तक सहयोग पहुंचाने का काम करेगी। कोऑपरेटिव बेस्ड इकोनॉमिक डेवलपमेंट मॉडल काफी अहम है। इस मॉडल में हर सदस्य जिम्मेदारी के साथ काम करता है।

मंत्रालय (Ministry of Co-operation) सहकारी समितियों के लिए 'व्यापार सुगमता' यानी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की प्रक्रियाओं को आसान बनाएगा। साथ ही मल्‍टी-स्‍टेट को-ऑपरेटिव्‍ज (MSCS) के विकास को बेहतर करने के लिए काम करेगा। केंद्र सरकार ने कम्‍यूनिटी आधारित डेवलपमेंटल पार्टनरशिप अपनी गहरी प्रतिबद्धता का संकेत दिया है। सहकारिता के लिए अलग मंत्रालय का गठन भी वित्त मंत्री की ओर से की गई बजट घोषणा को पूरा करता है।

आज होगा कैबिनेट में फेरबदल

मोदी सरकार 7 जुलाई को शाम 6 बजे कैबिनेट में फेरबदल करेगी। इसमें कई लोगों को जगह मिलने की उम्मीद है। जिन लोगों को कैबिनेट में जगह मिल सकती है उनमें असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, राज्यसभा सांसद और कांग्रेस से BJP में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया और LJP नेता पशुपति कुमार पारस को कैबिनेट में जगह दी जा सकती है।

वहीं बिहार में BJP की सहयोगी JDU कम से कम दो कैबिनेट बर्थ और एक राज्य मंत्री की मांग कर रही है। खबर ये भी है कि बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी भी मंत्री बन सकते हैं।

कल 8 राज्यपालों की नियुक्ति हुई थी

केंद्र सरकार में कल होने वाले कैबिनेट विस्तार से ठीक पहले मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक साथ 8 राज्यपालों की नियुक्ति की है। इससे पहले अगस्त 2018 में 7 राज्यों में एक साथ राज्यपाल बदले गए थे।

8 में से 4 का ट्रांसफर, 4 नए गवर्नर

  1. मंगूभाई छगनभाई पटेल: मध्य प्रदेश के राज्यपाल होंगे।
  2. थावर चंद गहलोत: केंद्रीय मंत्री थे, अब कर्नाटक के राज्यपाल होंगे।
  3. रमेश बैस: त्रिपुरा के गवर्नर थे, अब झारखंड के गवर्नर होंगे।
  4. बंडारू दत्तात्रेय: हिमाचल के गवर्नर थे, अब हरियाणा के राज्यपाल होंगे।
  5. सत्यदेव नारायण आर्य: हरियाणा के राज्यपाल थे, अब त्रिपुरा के गवर्नर होंगे।
  6. राजेंद्र विश्वनाथ आरलेकर: हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल होंगे।
  7. पीएएस श्रीधरन पिल्लई: मिजोरम के राज्यपाल थे, अब गोवा के गवर्नर होंगे।
  8. हरिबाबू कम्भमपति: मिजोरम के राज्यपाल होंगे।

FROM AROUND THE WEB