भरोसे के लायक नहीं है बीजेपी, उनके सांसद घुटन महसूस करते हैं: बीकेयू अध्यक्ष नरेश टिकैत

कृषि कानूनों को लेकर गाजीपुर में किसान आंदोलन (Kisan Andolan) की अगुवाई कर रही भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने बीजेपी पर बड़ा हमला बोला है।
 
भरोसे के लायक नहीं है बीजेपी, उनके सांसद घुटन महसूस करते हैं: बीकेयू अध्यक्ष नरेश टिकैत

नई दिल्ली। कृषि कानूनों को लेकर गाजीपुर में किसान आंदोलन (Kisan Andolan) की अगुवाई कर रही भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने बीजेपी पर बड़ा हमला बोला है। राकेश टिकैत के भाई और बीकेयू के अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने कहा कि सरकार और भारतीय जनता पार्टी विश्वास के लायक नहीं हैं। किसान यूनियन की मासिक बैठक में बोलते हुए टिकैत ने कहा कि यह आंदोलन लंबे समय तक चलेगा, इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।

नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने कहा कि सत्यपाल मलिक (मेघालय के राज्यपाल) जैसे और लोग आगे आएंगे। किसान उनकी सच्चाई का सम्मान करते हैं। भाजपा सांसद अब घुटन महसूस कर रहे हैं। बता दें कि सत्यपाल मलिक ने रविवार को किसान आंदोलन के समर्थन में बयान दिया था।

वहीं केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ अपने आंदोलन (Kisan Andolan) को तेज करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने 26 मार्च को अपने 'संपूर्ण भारत बंद' के लिए रणनीति बनाने के लिए विभिन्न जन संगठनों और संघों के साथ बुधवार को मुलाकात की। गंगानगर किसान समिति के रंजीत राजू ने मीडिया से बातचीत में कहा कि किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के चार महीने 26 मार्च को पूरे होने के मौके पर राष्ट्रव्यापी बंद के आह्वान के दौरान भी दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान 12 घंटे तक बंद रहेंगे। इसके बाद, 28 मार्च को केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों की प्रतियों का होलिका दहन किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि बंद सुबह छह बजे शुरू होगा और शाम छह बजे तक चलेगा और इस दौरान सभी दुकानें, डेयरी और सब कुछ बंद रहेगा। हम तीन कानूनों की प्रतियों का होलिका दहन करेंगे और उम्मीद है कि सरकार को सदबुद्धि आएगी और वह इन कानूनों को रद्द करेगी और एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) के लिए लिखित गारंटी देगी।

FROM AROUND THE WEB