दिल्ली पहुंचा कोरोना का नया खतरा, दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट का मिला पहला मरीज

महाराष्ट्र, पंजाब, केरल के बाद अब दिल्ली में भी कोरोना के मामले बढ़ते दिख रहे हैं। खतरा इसलिए भी ज्यादा बढ़ गया है, क्योंकि दिल्ली में कोरोना (Corona update Delhi) के दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट (Covid South African strain) का पहला मरीज मिला है।
 

नई दिल्ली। भारत में एक बार फिर से कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। महाराष्ट्र, पंजाब, केरल के बाद अब दिल्ली में भी कोरोना के मामले बढ़ते दिख रहे हैं। खतरा इसलिए भी ज्यादा बढ़ गया है, क्योंकि दिल्ली में कोरोना (Corona update Delhi) के दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट (Covid South African strain) का पहला मरीज मिला है। इसे लेकर सरकार की चिंता और बढ़ गई है। फिलहाल कोरोना के अफ्रीकी वेरिएंट (Covid South African strain) से संक्रमित 33 साल के व्यक्ति का दिल्ली के लोक नायक अस्पताल में इलाज चल रहा है। बताया जा रहा है कि पूरे देश में ऐसे कम से कम चार मामले मौजूद हैं। इसके अलावा भी भारत में अन्य जगहों पर पाए गए स्ट्रेन मिल चुके हैं। 

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली में (Corona update Delhi) दक्षिण अफ्रीका में पाए गए वेरिएंट (Covid South African strain) का पहला मरीज मिला है। रिपोर्ट में लोकनायक अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर सुरेश कुमार के हवाले से बताया कि संक्रमित केरल से है। वह 9 दिन पहले साउथ अफ्रीका से लौटने पर पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद तुरंत उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉ. कुमार ने बताया कि आज हमें रिपोर्ट्स मिली हैं, जो इस बात की पुष्टि करती हैं कि वो साउथ अफ्रीका के वैरिएंट (Covid South African strain) से संक्रमित है।

अलग वार्ड में किया गया आइसोलेट

रिपोर्ट के अनुसार, मरीज एसिम्प्टोमैटिक है। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सावधानी के तौर पर संक्रमित व्यक्ति को अलग वार्ड में आइसोलेशन पर रखा गया है। डॉक्टर ने बताया कि हमने उसे आइसोलेट (Corona update Delhi) करने के लिए विशेष वार्ड बनाया है, ताकि कोरोना के यूके वैरिएंट या असल स्ट्रेन से जूझ रहे मरीज आपस में मिल न जाएं। 

बता दें कि एक महीने पहले तक दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट (Covid South African strain)से जुड़ा एक भी मामला भारत में नहीं आया था। वहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बीते महीने (Corona update Delhi) ऐसे चार मामलों की पुष्टि की थी। होली फैमिली हॉस्पिटल में क्रिटिकल केयर के वाइस प्रेसिडेंट डॉक्टर सुमित रे बताते हैं कि नए वैरिएंट्स का फैलना चिंताजनक है। कोई स्टडी यह नहीं बताती कि नए वैरिएंट्स ज्यादा घातक हैं, इनमें से कुछ ज्यादा संक्रामक हैं।

FROM AROUND THE WEB