यूपी की सड़कों पर चक्कर लगाते रहे ओवैसी, लेकिन BJP नेता ने अपने होटल में नहीं दिया कमरा

 
यूपी की सड़कों पर चक्कर लगाते रहे ओवैसी, लेकिन BJP नेता ने अपने होटल में नहीं दिया कमरा

NewxBox Desk: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) गुरुवार को देर शाम तक वेस्ट यूपी (Owaisi in West UP) के दौरे पर रहे। वह गाजियाबाद, हापुड़, अमरोहा होते हुए संभल और मुरादाबाद में सियासी आयोजनों में शामिल हुए।

मुरादाबाद में वह (Asaduddin Owaisi) कुछ देर होटल में आराम करना चाहता थे, लेकिन BJP नेता के फाइव स्टार होटल में उनको कमरा नहीं दिया गया। हालांकि एआईएमआईएम के वर्करों ने चार कमरे पहले से बुक कराने का दावा किया।

15 मिनट तक ओवैसी ने किया इंतजार

भीड़ देख होटल मैनेजमेंट ने कमरा खोलने से इनकार दिया। उन्होंने कहा कि कोविड प्रोटोकॉल के चलते कमरा खोलना मुमकिन नहीं हैं। करीब 15 मिनट ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने होटल की लॉबी में इंतजार किया।

गाइडलाइन का हवाला देकर किया मना

मुरादाबाद में कार्यक्रम के बाद ओवैसी (Asaduddin Owaisi) एक फाइव स्टार होटल में पहुंचे। यह होटल एक बीजेपी नेता का है। उनके साथ बिना मास्क लगाए वर्करों की भीड़ थी। भीड़ घुसते ही होटल मैनेजमेंट ने कोरोना गाइडलाइन (Corona Guidelines) का हवाला देकर कमरा खोलने से मना कर दिया। बाद में ओवैसी चले गए।

मोदी मैजिक रहा था बेअसर

मुरादाबाद और संभल में मुसलमानों की तादाद खासी हैं। यहां मोदी मैजिक भी बेसर रहा था। लोकसभा चुनाव में बिजनौर, नगीना, अमरोहा, संभल, रामपुर, मुरादाबाद से विपक्ष के एमपी जीते थे। विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी को यहां मायूसी मिली थी। इस इलाके को एसपी-बीएसपी का गढ़ माना जाता हैं।

गरमाएगा सियासी समीकरण

ओवैसी का फोकस मुरादाबाद के साथ मेरठ, सहारनपुर, अलीगढ़ मंडल पर भी हैं। जानकारों का कहना है कि ओवैसी की एंट्री से सियासी समीकरण गरमाएगा। ओवैसी 2017 के विधानसभा चुनावों में एसपी की मुश्किलें बढा चुके हैं। अब 2022 की दस्तक को देखकर सपा में बेचैनी हैं।

संभल और मुरादाबाद में मुस्लिम वोट बैंक

इन सात विधानसभा सीटों पर मुस्लिम वोटरों की तादाद 50 प्रतिशत पार है। संभल में करीब 77 प्रतिशत, असमोली में 50 प्रतिशत, कुंदरकी में 70 प्रतिशत, बिलारी में 54 प्रतिशत, मुरादाबाद देहात 75 प्रतिशत, ठाकुरद्वारा 74 प्रतिशत और कांठ में 55 फीसदी मुस्लिम है।

2017 में बिगाड़ा था एसपी का खेल

एआईएमआईएम ने कांठ में 2017 प्रत्याशी उतारा था। इसका फायदा बीजेपी को मिला था। ओवैसी के कैंडिडेट को करीब 23 हजार वोट मिले थे। बीजेपी के राजेश कुमार चुन्नू ने 76 हजार वोट मिले थे। एसपी प्रत्याशी अनीसुर्रहमान करीब ढाई हजार वोट से हार गए थे।

एसपी सांसद ने कहा मुसलमानों का नुकसान करेंगे ओवैसी

संभल से एसपी सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क का कहना है कि ओवैसी की यूपी में सक्रियता मुसलमानों का नुकसान करेगी। ओवैसी जितने भी वोट काट पाएंगे, मुसलमानों के वोट काटेंगे। इसेस बीजेपी को फायदा पहुंचेगा। वह मुसलमानों का भला नहीं, बल्कि नुकसान करेंगे।

FROM AROUND THE WEB