किसान आंदोलन को तेज करने की तैयारी, 26 मार्च को फिर भारत बंद का ऐलान

देश की राजधानी दिल्ली में 100 से ज्यादा दिनों से कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन (Kisan Andolan in Delhi) जारी है। इस बीच किसानों ने अपने आंदोलन को तेज करने की नए सिरे से रणनीति बनाई है। इसे लेकर बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) की बैठक हुई,
 
किसान आंदोलन को तेज करने की तैयारी, 26 मार्च को फिर भारत बंद का ऐलान

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में 100 से ज्यादा दिनों से कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन (Kisan Andolan in Delhi) जारी है। इस बीच किसानों ने अपने आंदोलन को तेज करने की नए सिरे से रणनीति बनाई है। इसे लेकर बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) की बैठक हुई, जिसमें आगे के कार्यक्रमों की रूपरेखा तय की गई। किसान नेता डॉ. दर्शन पॉल (Darshan Pal) के मुताबिक, किसान आंदोलन को 26 मार्च को 4 महीने पूरे होने जा रहे है। ऐसे में संगठन ने 26 मार्च को पूर्ण रूप से भारत बंद का ऐलान किया है।

किसान नेता . दर्शन पॉल (Darshan Pal) के मुताबिक, बैठक में 15 मार्च को कॉरपोरेट विरोधी दिवस मनाने का फैसला लिया गया है। किसान आंदोलन (Kisan Andolan in Delhi) को धार देने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने दौरान डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस व अन्य जरूरी वस्तुओं के बढ़ते दामों के खिलाफ DM और SDM को ज्ञापन देकर प्रदर्शन करने का फैसला किया है। 15 मार्च को ही देशभर के रेलवे स्टेशनों पर मजदूर संगठनों के साथ निजीकरण के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

दर्शन पाल  (Darshan Pal)ने एक चैनल से बातचीत करते हुए कहा कि 17 मार्च को मजदूर संगठनों व अन्य जन अधिकार संगठनों के साथ 26 मार्च के प्रस्तावित भारत बंद को सफल बनाने के लिए एक कन्वेंशन की जाएगी। संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) 19 मार्च को मुजारा लहर दिन मनाया जाएगा और FCI और खेती बचाओ कार्यक्रम के तहत देशभर की मंडियों में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। 23 मार्च को शहीद भगत सिंह के शहीदी दिवस पर देशभर के नौजवान दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन (Kisan Andolan in Delhi) में शामिल होंगे। 28 मार्च को देशभर में होलिका दहन पर किसान विरोधी कानून की प्रतियां जलाई जाएंगी।

FROM AROUND THE WEB