Punjab Election 2022 : राघव चड्ढा का कांग्रेस पर हमला, कहा- सिद्धू को कोई गंभीरता से नहीं लेता

चंडीगढ़। पंजाब में विधानसभा (Punjab Election 2022) चुनाव होने वाले हैं ऐसे में विपक्षी पार्टियों की जुबानी जंग तेज होती दिखायी पड़ रही हैं। पंजाब मे इस समय कांग्रेस की सरकार हैं। पार्टी में कलह के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और पार्टी की कमान नवजोत सिंह सिद्धू को सौंप दी गयी।
 
Punjab Election 2022 : राघव चड्ढा का कांग्रेस पर हमला, कहा- सिद्धू को कोई गंभीरता से नहीं लेता

चंडीगढ़। पंजाब में विधानसभा (Punjab Election 2022) चुनाव होने वाले हैं ऐसे में विपक्षी पार्टियों की जुबानी जंग तेज होती दिखायी पड़ रही हैं। पंजाब मे इस समय कांग्रेस की सरकार हैं। पार्टी में कलह के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और पार्टी की कमान नवजोत सिंह सिद्धू को सौंप दी गयी।

चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के नये मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दी। अब पंजाब में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच कांटे की टक्कर होने वाली हैं। माना जा रहा है कि क्रांगेस के लिए आप एक बड़ी मुसिबत बन सकती हैं। कांग्रेस के नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को लेकर आम आदमी पार्टी कांग्रेस पर निशाना साधने का एक भी मौका नहीं छोड़ रही हैं। 

आम आदमी पार्टी के पंजाब सह प्रभारी राघव चड्ढा (Raghav Chaddha) ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई भी उन्हें गंभीरता से नहीं लेता है। राघव चड्ढा ने कहा, यहां तक ​​​​कि उनकी (सिद्धू की) पार्टी के सदस्य भी उन्हें गंभीरता से नहीं लेते हैं।

चड्ढा (Raghav Chaddha) 7 जनवरी को अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं से घिरे हुए थे, जब वे प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जालंधर गए थे। आप के डॉ शिवदयाल माली, डॉ संजीव शर्मा और जोगिंदर पाल शर्मा के समर्थकों ने पार्टी नेताओं के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए क्योंकि आप कार्यकर्ताओं को जालंधर प्रेस क्लब में एक-दूसरे को धक्का और पीटते देखा गया था।  इस बीच, पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस को मुख्य रूप से खाली खजाने के कारण अधूरे चुनावी वादों के लिए आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। पंजाब कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) राज्य के करीब 3 लाख करोड़ रुपये के कर्ज का मुद्दा उठाते रहे हैं।

प्रदेश ते कोषागार को भरने के लिए नवजोत सिद्धू ने हाल ही में कहा था कि आबकारी राजस्व की चोरी रोकने के लिए कांग्रेस सरकार राज्य शराब निगम बनाएगी। सिद्धू के पंजाब मॉडल में एक निगम भी होगा, जो विशेष रूप से खनन गतिविधियों, विशेष रूप से खनन और रेत की बिक्री से निपटेगा। हाल ही में, सिद्धू दावा करते रहे हैं कि उन्होंने विकास के अपने पंजाब मॉडल के दिमाग की उपज के लिए बहुत सारे शोध किए हैं। हालाँकि, रेत, शराब और अन्य माफियाओं से होने वाले राजस्व नुकसान के बारे में उनके द्वारा किए गए अनुमान केवल अनुमान ही लगते हैं क्योंकि वह लोगों को संबोधित करते हुए अलग-अलग आंकड़े पेश करते रहे हैं। आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, जो हाल ही में कोविड-19 से ठीक हुए हैं, पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर हैं।

FROM AROUND THE WEB