बैंके के प्राइवेटाइजेशन पर राहुल का वार, कहा-मोदी मित्रों को सरकारी बैंक बेचना वित्तीय सुरक्षा से खिलवाड़

सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण (Bank Privatisation ) को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ बैंक कर्मचारियों की हड़ताल आज दूसरे दिन जारी है। इसी कड़ी में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi on Bank Strike) ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए हड़ताल कर रहे बैंक कर्मचारियों का समर्थन किया है।
 
बैंके के प्राइवेटाइजेशन पर राहुल का वार, कहा-मोदी मित्रों को सरकारी बैंक बेचना वित्तीय सुरक्षा से खिलवाड़

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण (Bank Privatisation ) को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ बैंक कर्मचारियों की हड़ताल आज दूसरे दिन जारी है। लाखों की संख्या में बैंक कर्मचारी दो दिवसीय हड़ताल पर हैं। हड़ताल की वजह से बैंकिंग सेवाओं पर असर पड़ा है। इस बीच विपक्षी दल भी बैंकों के निजीकरण के विरोध में यूनियन के हड़ताल का समर्थन कर रहे हैं। इसी कड़ी में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi on Bank Strike) ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए हड़ताल कर रहे बैंक कर्मचारियों का समर्थन किया है।

मोदी मित्रों को बेचे जा रहे बैंक!

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi on Bank Strike) ने ट्वीट किया कि केंद्र सरकार लाभ का निजीकरण नुकसान का राष्ट्रीयकरण कर रही है। सरकारी बैंक मोदी मित्रों को बेचना भारत की वित्तीय सुरक्षा से खिलवाड़ है। मैं हड़ताल कर रहे बैंक कर्मचारियों के साथ हूं।


दो दिन की हड़ताल पर हैं बैंक कर्मचारी

गौरलतब है कि यूनाइडेट फोरम ऑफ बैंक यूनियन(UFBU) ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के खिलाफ देशभर में 15-16 मार्च को हड़ताल (Rahul Gandhi on Bank Strike) बुलाई है। जिसके आह्वान पर देश के अलग-अलग हिस्सों ने बैंक कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं। प्रदर्शन कर रहे बैंक कर्मचारियों का कहना है कि अगर सरकार नहीं मानी तो हम अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे।

दरअसल, पिछले महीने पेश किए गए केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपनी विनिवेश योजना के हिस्से के रूप में दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी। इससे पहले, सरकार ने वर्ष 2019 में आईडीबीआई बैंक में अपनी बहुलांश हिस्सेदारी एलआईसी को बेचकर उसका निजीकरण कर चुकी है इसके साथ ही पिछले चार वर्षो में सार्वजनिक क्षेत्र के 14 बैंकों का विलय किया गया है।

FROM AROUND THE WEB