विपक्ष के हंगामे पर बिफरे राजनाथ, कहा- 24 सालों में ऐसा कभी नहीं देखा, मर्यादाएं टूट रही हैं

 
विपक्ष के हंगामे पर बिफरे राजनाथ, कहा- 24 सालों में ऐसा कभी नहीं देखा, मर्यादाएं टूट रही हैं

NewzBox Desk: संसद के मॉनसून सत्र  (Monsoon Session 2021) के पहले दिन ही विपक्षी सांसदों के व्‍यवहार से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) दुखी हो गए। 

लोकसभा में नए सांसदों (Member Of Parliament) के शपथ ग्रहण के साथ कार्यवाही शुरू हुई। इसके बाद पीएम मोदी (PM Narendra Modi) उठे और अपने मंत्रियों का परिचय कराना शुरू किया। इस दौरान विपक्षी सांसदों ने हंगामा शुरू कर दिया। 

पीएम (PM Narendra Modi) ने कहा कि वे सोचकर आए थे कि आज सदन में उत्‍साह का माहौल होगा मगर ऐसा नहीं हुआ। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि उन्‍होंने पिछले 24 साल में ऐसा कभी नहीं देखा। लोकसभा के स्‍पीकर ओम बिरला ने भी विपक्ष को खूब सुनाया।

विपक्ष पर बरसे पीएम, राजनाथ ने भी लताड़ा

विपक्षी सांसदों के हंगामे पर पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा, "मैं सोच रहा था कि आज सदन में उत्साह का वातावरण होगा क्योंकि बहुत बड़ी संख्या में हमारी महिला सांसद, दलित भाई, आदिवासी, किसान परिवार से सांसदों को मंत्रिपरिषद में मौका मिला। उनका परिचय करने का आनंद होता। लेकिन शायद देश के दलित, महिला, ओबीसी, किसानों के बेटे मंत्री बनें ये बात कुछ लोगों को रास नहीं आती है। इसलिए उनका परिचय तक नहीं होने देते।"

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने भी विपक्ष को लताड़ लगाई। उन्‍होंने कहा कि पिछले 24 साल के संसदीय इतिहास में उन्‍होंने ऐसा कभी नहीं देखा। राजनाथ ने कहा कि सदन में परंपराएं टूट रही हैं। स्‍पीकर ओम बिरला ने भी विपक्षी सांसदों को उनके व्‍यवहार के लिए खरी-खोटी सुनाई।

विपक्ष के सांसदों के लगातार हंगामे के बीच लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 2 बजे तक स्थगित कर दी गई।

'तीखे सवाल पूछे विपक्ष, हम तैयार हैं'

इससे पहले, संसद परिसर में मीडिया से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सरकार चर्चा के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्‍होंने कहा कि 'ये सदन परिणामकारी, सार्थक चर्चा के लिए समर्पित हो, देश की जनता जो जवाब चाहती है वो जवाब देने की सरकार की पूरी तैयारी है। मैं सभी सांसदों और राजनीतिक दलों से आग्रह करूंगा कि वो तीखे से तीखे सवाल पूछें लेकिन सरकार को शांत वातावरण में जवाब देने का मौका भी दें।'

मोदी ने कहा कि 'मैंने सदन के सभी नेताओं से आग्रह किया है कि अगर कल शाम को वो समय निकालें तो मैं महामारी के संबंध में सारी विस्तृत जानकारी उनको देना चाहता हूं। हम सदन के अंदर और सदन के बाहर भी चर्चा चाहते हैं।'

FROM AROUND THE WEB