केंद्रीय बलों पर गलत टिप्पणी पर फंसी ममता बनर्जी, चुनाव आयोग ने भेजा दूसरा नोटिस

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (EC notice to Mamata Banarjee) की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ती दिख रही है। केंद्रीय बलों को लेकर दिए बयान पर चुनाव आयोग ने सीएम ममता बनर्जी को एक और नोटिस जारी किया है।
 

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (EC notice to Mamata Banarjee) की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ती दिख रही है। केंद्रीय बलों को लेकर दिए बयान पर चुनाव आयोग ने सीएम ममता बनर्जी को एक और नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग ने साथ ही ममता को शनिवार सुबह 11 बजे तक अपने बयान पर स्पष्टीकरण देने को कहा है। 

दरअसल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री (EC notice to Mamata Banarjee) ने दो मौकों पर वोटरों को सतर्क रहने की सलाह देते हुए कहा था कि केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों के जवान गांवों में लोगों को डराने-धमकाने पहुंच सकते हैं। इससे पहले टीएमसी ने आरोप लगाया था कि केंद्रीय सुरक्षाबल बंगाल में उनके वोटरों को पोलिंग बूथ पर जाने से रोक रहे हैं।

सीआरपीएफ जवानों पर लगाया था आरोप

बता दें कि ममता बनर्जी (EC notice to Mamata Banarjee) ने बुधवार को आरोप लगाया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इशारे पर सीआरपीएफ के जवान बंगाल में वोटरों को परेशान कर रहे हैं। ममता ने कूच बिहार जिले में एक रैली के दौरान केंद्रीय बल के कर्मियों पर मौजूदा विधानसभा चुनावों के दौरान महिलाओं के साथ छेड़छाड़ करने और लोगों के साथ मारपीट करने का आरोप लगाया। उन्होंने आरोप लगाया, वे मतदाताओं को वोट डालने से रोक रहे हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उन्हें ऐसा करने का निर्देश दिया है।

ममता (EC notice to Mamata Banarjee) ने कहा कि प्रशासन चुनाव आयोग चला रहा है। कृपया गौर करें कि मतदान प्रक्रिया के दौरान किसी की मौत नहीं हो। मेरा आपसे अनुरोध है कि उन सीआरपीएफ कर्मियों पर नजर रखें जो राज्य में अभी ड्यूटी पर हैं। उन्हें महिलाओं को परेशान करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। ऐसे मामले भी हैं जिनमें केंद्रीय बल के कर्मचारियों द्वारा लड़कियों के साथ छेड़छाड़ की गयी है।

पहले भी उठाए थे सवाल

ममता बनर्जी (EC notice to Mamata Banarjee) ने इससे पहले 28 मार्च को एक रैली में भी इसी तरह के सवाल उठाए थे। ममता बनर्जी ने सवाल किया था कि केंद्रीय बलों को महिलाओं को वोट डालने की अनुमति दिए बिना धमकी देने की शक्ति किसने दी। ममता के मुस्लिम वोटरों से टीएमसी के समर्थन में वोट डालने की अपील को लेकर चुनाव आयोग पहले ही नोटिस जारी कर चुका है।

पहले नोटिस का ममता ने दिया जवाब

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (EC notice to Mamata Banarjee) ने चुनाव आयोग के पहले नोटिस का जवाब देते हुए कहा कि वह सांप्रदायिक आधार पर मतदाताओं को बांटने के किसी भी प्रयास के खिलाफ आवाज उठाती रहेंगी और चुनाव आयोग चाहे तो उन्हें दस कारण बताओ नोटिस भेज दें। 

FROM AROUND THE WEB