विदेश में पढ़ने या नौकरी करने वालों को महीनेभर में लगेगी वैक्सीन की दूसरी डोज, गाइडलाइन जारी

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में वैक्सीन सबसे बड़ा हथियार माना जा रहा है। इस समय भारत में 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। सरकार ने हाल ही में टीकाकरण को लेकर नियमों में बदलाव किया है और अब कोविशील्ड (Covishield) के पहले और दूसरे डोज के बीच का अंतर कम कर दिया है। 
 
विदेश में पढ़ने या नौकरी करने वालों को महीनेभर में लगेगी वैक्सीन की दूसरी डोज, गाइडलाइन जारी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में वैक्सीन सबसे बड़ा हथियार माना जा रहा है। इस समय भारत में 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। सरकार ने हाल ही में टीकाकरण को लेकर नियमों में बदलाव किया है और अब कोविशील्ड (Covishield) के पहले और दूसरे डोज के बीच का अंतर कम कर दिया है। 

दरअसल, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (Mohfw) ने गाइडलाइन जारी कर बताया है कि विदेश यात्रा पर जाने वालों के लिए कोविशील्ड (Covishield) पहले और दूसरे डोज का गैप कम किया गया है, जबकि आम परिस्थिति में लोगों को दूसरी डोज के लिए 84 दिन का इंतजार करना होगा। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार, विदेश में पढ़ने और नौकरी करने वाले लोग 28 दिन बाद कोविशील्ड (Covishield) की दूसरी डोज ले सकते हैं। इसके अलावा टोक्यो में होने वाले अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाले भारतीय दल के एथलीट, खिलाड़ी और सपोर्ट स्टाफ भी कोविशील्ड की दूसरी डोज 28 दिनों बाद ही लगवा सकते हैं। 

16 जनवरी को जब देश में कोरोना वैक्सीन लगाने की शुरुआत हुई थी, तब कोविशील्ड (Covishield) की 2 डोज के बीच अंतर 4-6 हफ्ते तय किया गया था। इसके बाद 22 मार्च को इसमें बदलाव किया गया और इसे बढ़ाकर 6-8 हफ्ते कर दिया गया। इसके बाद 13 मई को कोविशील्ड की 2 डोज के बीच अंतर को एक बार फिर बढ़ा दिया गया और इसे 12-16 हफ्ते कर दिया गया। 

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) के आंकड़ों के अनुसार, अब तक (11 जून सुबह 7 बजे) भारत में कोरोना वैक्सीन की 24 करोड़ 60 लाख 85 हजार 649 डोज लगाई जा चुकी है। देशभर में 19 करोड़ 85 लाख 11 हजार 574 पहली डोज दी गई है, जबकि 4 करोड़ 75 लाख 74 हजार 75 लोग दोनों डोज लगवा चुके हैं। 

FROM AROUND THE WEB