खुदाई में जमीन से निकले 5 शिवलिंग, दिव्य नाग दे रहे थे पहरा..चमत्कार देख लोगों ने जोड़ लिए हाथ

Shivalinga naag
New Delhi: यूं तो हमने ग्रंथों में ईश्वर की लीलाओं के बारे में बहुत बार पड़ा है, लेकिन इस कलयुग में भी परमात्मा अपने भक्तों को अपने अस्तित्व के बारे में बताएं तो यह वाकई चौंकाने वाली बात है। ऐसा ही एक मामला पंजाब के लुधियाना से सामने आया है, जहां भक्तजन इस अनोखी घटना को भगवान का चमत्कार मान रहे हैं।

यह भी पढ़ें : भगवान शिव के 5 विशाल शिवलिंग….जिनके दर्शन मात्र से दूर हो जाते हैं भक्तों के दुख-दर्द

मंद‍िर में श‍िवल‍िंग (Shivaling) बनाने के ल‍िए खुदाई हो रही थी क‍ि तभी अचानक दो ज‍िंदा नागों (Snake) को देख खुदाई करने वालों के होश उड़ गए। वह नाग बेहोशी की हालत में थे। फ‍िर नीचे और खुदाई की तो अंदर पांच श‍िवल‍िंग दबे हुए थे ज‍िन पर प्राकृतिक रूप से ॐ की आकृत‍ि खुदी हुई थी। खुदाई में ईस्ट इंड‍िया कंपनी के समय के 1616 ईसवी के स‍िक्के भी न‍िकले। यह हैरतअंगेज घटना पंजाब के लुधियाना की है।

लुधियाना के गुरपाल नगर में प्राचीन शिव महिमा मंदिर (Shiva temple) में शिवलिंग स्थापित करने के लिए की जा रही खुदाई के दौरान 5 शिवलिंग, दो नागों का जोड़ा, एक शंख और कई पुराने सिक्के मिलने का मामला सामने आया है।

खुदाई कराने वाले की नजर नागों (सांप) पर पड़ी जो कि बेहोशी की हालत में थे। उन्होंने उस समय तुरंत खुदाई को रुकवाया और नागों को बाहर न‍िकाला। नागों को बाहर निकलने पर फिर और खुदाई की गई तो उसमें से 5 शिवलिंग व शंख, माला और 1616 ईसवी के सिक्के भी निकले। कुछ स‍िक्के ईस्ट इंड‍िया कंपनी के थे तो कुछ और भी पुराने थे।

यह भी पढ़ें : भगवान शिव की कृपा से सब पर बरसेगा अपार धन, लेकिन करना होगा ये छोटा सा काम

जैसे ही यह सारा माजरा लोगों का पता चला, वहां इन सब को देखने के ल‍िए लोग आने लगे। लोग अपने-अपने तरीके से श्रद्धा प्रकट कर रहे थे। मंद‍िर प्रबंधक हरविंदर सिंह की मानें तो ये खुदाई की जा रही थी कि अचानक उन्हें नाग दिखाई पड़े थे। इन नागों को देखकर वह हैरत में पड़ गए। इसके बाद उन्होंने खुदाई कर दो नागों का जोड़ा निकाला जिसको मंदिर में रख दिया है। इस जगह की खुदाई श‍िवल‍िंग बनाने के ल‍िए ही हो रही थी।

उसके बाद शिवलिंग व अन्य समान मिलने पर उन्होंने भगवान शिव भोले का चमत्कार बताया। उन्होंने कहा कि लोग सुबह से ही भोले बाबा के दर्शन करने के लिए आ रहे हैं। अभी फिलहाल खुदाई को रोक दिया गया है।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रुचि को ध्यान में रखकर लिखा गया है।