149 साल बन रहा दुर्लभ संयोग..गुरु पूर्णिमा पर लग रहा चंद्र ग्रहण, इन 6 राशियों की खुलेगी किस्मत

Grahan
New Delhi: सूर्य ग्रहण के बाद गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) पर 16 और 17 जुलाई की मध्य रात्रि को चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) लगेगा। यह ग्रहण मंगलवार की मध्य रात्रि को रात 1:31 बजे शुरू होगा और सुबह 4.30 बजे तक रहेगा। यह इस साल का दूसरा ग्रहण है।

हिंदू पंचांग के अनुसार आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में यह चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) लग रहा है। यह खंडग्रास चंद्रग्रहण होगा। इसे भारत के साथ ही आस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में देखा जा सकेगा।

यह भी पढ़ें : लोहार्गल मंदिर: सूर्यदेव का वो मंदिर, जहां मौजूद कुंड में स्नान करने से होता है रोगों का नाश

मंगलवार की शाम 4:30 बजे से चंद्रग्रहण (Chandra Grahan) का सूतक लग जाएगा। इसके बाद रात 1.31 बजे से ग्रहण लगना प्रारंभ होगा और सुबह 4.30 बजे ग्रहण का मोक्ष होगा। अधिकतम ग्रहण रात के 3 बजे देखने को मिलेगा। ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटे 59 मिनट की होगी।

149 साल बाद दुर्लभ योग

यह ग्रहण आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को धनु राशि के उत्तर आषाढ़ा नक्षत्र में लग रहा है। यह ग्रहण 149 साल बाद आषाढ़ पूर्णिमा के अवसर पर लग रहा है। इससे पहले साल 1870 में ऐसा दुर्लभ योग देखने को मिला था।

6 राशि के लोगों के लिए विशेष लाभकारी

यह खग्रास चंद्रग्रहण गुरु पूर्णिमा पर लग रहा है। ज्‍योतिषियों के अनुसार, यह चंद्रग्रहण 6 राशि के लोगों के लिए विशेष लाभकारी है। राजनीति से जुड़े वे लोग जिनकी राशि मेष, वृष, कन्या, वृश्चिक, धनु व मकर है, उन्हें इस चंद्रग्रहण से विशेष लाभ होने के आसार हैं। यह चंद्रग्रहण मंगलवार और उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में आ रहा है, तो इसके प्रभाव से राजनीतिक उथल-पुथल के साथ ही प्राकृतिक आपदा की स्थिति बनने की पूरी आशंका है।

दान करेंगे तो पाएंगे फल

पंडितों के अनुसार, ग्रहण के दौरान आटा, चावल, चीनी, श्वेत वस्त्र, साबूत उड़द, सतनाजा, काला तिल और काले वस्त्र किसी जरूरतमंद को दान करने चाहिए। इसके अलावा, इस दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। संभव हो सके तो भगवान का भजन कीर्तन करें।

यह भी पढ़ें : गुरु पूर्णिमा पर लग रहा चंद्र ग्रहण, जानें सूतक का समय, बरतें ये सावधानियां

जाने चंद्रग्रहण का समय
  • सूतक: 16 जुलाई को शाम 4:29 बजे से
  • ग्रहण प्रारंभ: 16-17 जुलाई की रात 1:31 बजे से
  • ग्रहण मोक्ष: सुबह 4:30 बजे
  • ग्रहण की अवधि: लगभग 3 घंटे

नोट: हमारा उद्देश्य किसी भी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रूचि के आधार पर लिखा गया है।