सावन 2019: भगवान शिव की कृपा से सब पर बरसेगा अपार धन, लेकिन करना होगा ये छोटा सा काम

Sawan Somvar Lord Shiva
New Delhi: सावन (Sawan) का महीना भगवान शिव (Lord Shiva) का महीना माना जाता है। पंचाग के अनुसार इस बार सावन का महीना 17 जुलाई से 15 अगस्त तक रहेगा। सावन का महीना (Shravan) जल तत्व का महीना है।

इस महीने (Shravan) में शुक्र और चंद्र दोनों ही मजबूत होते हैं। ये दोनों ही ग्रह सरलता से सुख और समृद्धि प्रदान करते हैं। इन दोनों ग्रहों को मजबूत करके आसानी से भाग्य को मजबूत किया जा सकता है। धन और ऐश्वर्य के लिए शुक्र और चंद्र के साथ शिव जी (Lord Shiva) की उपासना करना बहुत लाभकारी हो सकता है।

धन प्राप्ति के लिए सावन में क्या करें?
  • नियमित रूप से शिवलिंग पर जल की धारा अर्पित करें।
  • प्रातः और सायं शिव जी के दरिद्रतानाश मन्त्र का जाप करें।
  • मंत्र होगा – “ॐ दारिद्रय दुःख दहनाय नमः शिवाय”
  • रोज यथाशक्ति कुछ न कुछ धन का दान अवश्य करें।

यह भी पढ़ें : सावन 2019: भगवान शिव की पूजा में राशि अनुसार करें इन वस्तुओं का प्रयोग, मिलेगा मनचाहा फल

कर्ज मुक्ति के लिए सावन में क्या करें ?
  • रोज प्रातः शिव मंदिर जाएं।
  • सबसे पहले शिवलिंग पर शहद अर्पित करें।
  • उसके बाद शिवलिंग पर जल की धारा अर्पित करें।
  • ऐसा करते समय एक विशेष मंत्र का जाप करें।
  • मंत्र होगा – “ॐ ऋणमुक्तेश्वराय नमः शिवाय”
  • मंत्र जप के बाद कर्ज मुक्ति की प्रार्थना करें
  • ये उपाय सावन के हर मंगलवार करें।
शीघ्र विवाह के लिए सावन में क्या करें ?
  • प्रातः स्नान करके शिवजी को जल अर्पित करें।
  • अपनी उम्र के बराबर बेलपत्र शिव जी को अर्पित करें।
  • “नमः शिवाय” का जप करें।
  • एक दो मुखी या छः मुखी रुद्राक्ष धारण करें।
  • पूरे सावन में सात्विक आहार ग्रहण करें।
  • यह उपाय सावन के हर सोमवार को करें।

यह भी पढ़ें : जानें कैसे हुआ भगवान शिव का जन्म और कौन हैं इनके माता-पिता, इस पौराणिक कथा में छिपा है रहस्य

भाग्य को मजबूत करने के लिए सावन में क्या करें ?
  • शिवलिंग पर जल, बेलपत्र और सुगंध अर्पित करें।
  • यथाशक्ति “नमः शिवाय” का जाप करें।
  • रोज शिव पुराण का पाठ या अध्ययन जरूर करें।
  • शिवलिंग पर स्पर्श कराकर रुद्राक्ष या रुद्राक्ष की माला धारण करें।
  • शिवजी के प्रति अपनी सम्पूर्ण निष्ठा बनाये रखें।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी भी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रूचि के आधार पर लिखा गया है।