Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण के दौरान न करें ये काम, हर किसी को रखना चाहिए इन बातों का ख्याल

Solar eclipse surya grahan precaution
New Delhi: 2 जुलाई दुनिया के कुछ हिस्‍सो में पूर्ण सूर्य ग्रहण (Total Solar Eclipse) का नजारा दिखाई देगा। यह साल 2019 का इकलौता पूर्ण सूर्य ग्रहण है। आषाढ़ महीने की अमावस्‍या (Ashadha Amavasya) के दिन ग्रहण (Grahan) कुल पांच घंटे तक दिखाई देगा।

भारतीय समयानुसार सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) 2 जुलाई की रात लगभग 10 बजकर 25 मिनट से शुरू होगा। इसके बाद 12 बजकर 53 मिनट पर ग्रहण का मध्‍य होगा और रात 3 बजकर 21 मिनट पर ग्रहण समाप्‍त हो जाएगा। वैसे तो सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) एक आकाशीय घटना है और इसके वैज्ञानिक कारण हैं लेकिन इसे लेकर कई तरह की धार्मिक मान्‍यताएं हैं।

यह भी पढ़े: Solar Eclipse 2019: आज लगेगा सूर्य ग्रहण, जानें कब लगेगा सूतक और खाने से जुड़ी मान्यताएं

मान्‍यताओं के अनुसार ग्रहण (Eclipse) काल में सूतक रहता है और इस दौरान कुछ काम नहीं करने चाहिए। वहीं सूतक काल खत्‍म होने के बाद ग्रहण के दुष्‍प्रभाव को खत्‍म करने के लिए मान्‍यताओं के मुताबिक कुछ विशेष जतन करना फलदायी होता है।

सूर्य ग्रहण के दौरान क्‍या करें और क्‍या न करें
  • सूर्य ग्रहण के दौरान आसमान को नंगी आंखों से न देखें।
  • सूर्य ग्रहण को हमेशा सोलर फिल्टर वाले चश्मों से देखें। इस चश्मों को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस कहा जाता है।
  • ज्योतिषों और पंडितों की मानें तो ग्रहण के वक्त बाहर नहीं निकलना चाहिए। खासकर प्रेग्नेंट महिलाओं, बुज़ुर्गों, रोगी और बच्चों को बाहर नहीं जाना चाहिए।
  • ज्‍योतिष के अनुसार ग्रहण के दौरान खाना खाने और पकाने की भी मनाही है।
सूर्य ग्रहण के बाद क्‍या करें
  • मान्यता है कि ग्रहण के तुरंत बाद किसी भी काम को करने से पहले नहाना चाहिए। सिर्फ खुद को ही नहीं बल्कि घर के मंदिर में मौजूद सभी भगवानों की मूर्तियों को भी नहलाना या फिर गंगाजल छिड़कना चाहिए।
  • इसके बाद पूरे घर में धूप-बत्ती कर शुद्धीकरण किया जाना चाहिए।
  • ग्रहण के बाद घर में या बाहर मौजूद तुलसी के पौधे को भी गंगाजल डालकर स्वच्छ करना चाहिए।
  • मान्यता है कि ग्रहण के बाद मन की शुद्धी के लिए दान-पुण्य भी करना चाहिए।

यह भी पढ़े: 2 जुलाई राशिफल: आज लगने जा रहा है साल का दूसरा सूर्य ग्रहण, सावधान रहे इन 5 राशियों के लोग

वैसे यह पूर्ण सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। ग्रहण के वक्‍त भारत में रात होगी इसलिए यहां इसका कोई प्रभाव नहीं होगा और न ही सूतक काल होगा। लेकिन फिर भी जो लोग विश्‍वास रखते हैं वे ग्रहण काल के बाद दान-दक्षिणा दे सकते हैं। आपको बता दें कि दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, दक्षिण मध्‍य अमेरिका और अर्जेंटीना में 2 जुलाई को लगभग पांच घंटे के लिए पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी भी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रूचि के आधार पर लिखा गया है।