Solar Eclipse 2019: आज लगेगा सूर्य ग्रहण, जानें कब लगेगा सूतक और खाने से जुड़ी मान्यताएं

Solar Eclipse 2019
New Delhi: आज यानी मंगलवार को सूर्य ग्रहण लगेगा। अगर आप सोच रहे हैं कि आज सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2019) कितने बजे लगेगा या सूतक कब लगेगा (2 July Surya Grahan Time) तो बता दें कि यह सूर्य ग्रहण भारतीय समयानुसार आज रात 10 बजकर 25 मिनट पर लगेगा और सुबह 3 बजकर 21 मिनट पर खत्म होगा।

यह भी पढ़े: Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण के दौरान न करें ये काम, हर किसी को रखना चाहिए इन बातों का ख्याल

हिंदू पंचाग के अनुसार साल 2019 में पड़ने या लगने वाले सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) में से आज लगने वाला सूर्य ग्रहण आषाढ कृष्ण पक्ष अमावस्या को होगा। यह सूर्य ग्रहण दक्षिण प्रशांत महासागर से शुरू होगा और दक्षिणी अमेरिका के कुछ भागो में भी इसका प्रभाव होगा। चिली और अर्जेंटीना में भी आज होने वाला सूर्य ग्रहण (Total Solar Eclipse 2019) खग्रास रूप में दिखेगा।

अटलांटिका में भी इस ग्रहण का असर रहेगा। यह सूर्य ग्रहण भारतीय समय अनुसार रात को होगा, तो इसका भारत में (Total Solar Eclipse 2019) कोई विशेष प्रभाव नहीं होता। अगर आप सोच रहे हैं कि सूर्य ग्रहण क्या होता है, तो आपको बता दें कि सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है, जो सूर्य, चंद्र और धरती की एक विशेष स्थिति के चलते होती है।

कब लगेगा सूतक

2 जुलाई की रात से लगने वाले खग्रास सूर्यग्रहण का सूतक 12 घंटे पहले यानी दिन में 10:25 बजे से शुरू हो जाएगा। लेकिन भारत में ग्रहण नहीं होने के कारण सूतक का प्रभाव नहीं माना जाएगा। गौरतलब है कि ग्रहण के सूतक का प्रभाव उन्हीं स्थानों पर होता है, जहां ग्रहण के दौरान सूर्य या चंद्रमा की रोशनी पड़ती है।

सूर्य ग्रहण कैसे होता है

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है और वह इसके साथ ही साथ सूर्य के चक्कर भी लगाती है। जिस तरह धरती सूरज की परिक्रमा करती है ठीक उसी तरह चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह है और उसके चक्कर लगता है। एक तरह जब दोनों अपनी-अपनी धूरी पर परिक्रमा करते हैं और कभी चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाता है तो पृथ्वी पर सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है। इसी पल को ग्रहण कहा जाता है।

सूर्य ग्रहण के दौरान की मान्यताएं
  • माना जाता है कि सूर्य ग्रहण को देखना नहीं चाहिए।
  • कहते हैं कि ग्रहण के दौरान नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव अधिक होता है, इसलिए हमेशा इस दौरान ईश्वर का ध्यान करना चाहिए।
  • माना जाता है कि गर्भवती महिलाओं को इस दौरान कोई भी काम नहीं करना चाहिए।
  • मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ भी खाना नहीं चाहिए।
  • कहते हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान खाना भी नहीं बनाना चाहिए।
  • कहा जाता है कि जब भी सूर्य ग्रहण लगा हो, तो उस दौरान कपड़े नहीं सीलने चाहिए, न ही सूई का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • हिंदू धर्म में मान्यता है कि ग्रहण के दौरान नुकीली चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण के बाद स्नान करने की भी मान्यता है।
  • प्रेग्नेंट महिलाओं, बुज़ुर्गों, रोगी और बच्चों को ग्रहण के दौरान खाना खाने और पकाने को भी मना किया जाता है।
  • कुछ लोग तो अपने घरों को भी पानी से धो डालते हैं। मान्यता है कि ग्रहण के बाद मन की शुद्धी के लिए दान-पुण्य भी करना चाहिए।
सूर्य ग्रहण में खाएं या नहीं, जानें ग्रहण में खाने से जुड़ी मान्यताएं

ग्रहण शुरू होने के पहले या खत्म होने के बाद के दो घंटों में आप कुछ भी खा सकते हैं। जब सूर्य की किरणें नहीं होतीं, तो बैक्टिरीया काफी सक्रिय होते हैं। जो खाने के पोषक तत्वों को प्रभावित कर सकते हैं और आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इतना ही नहीं इस दौरान खाना पकाने से भी बचना चाहिए। लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बीमार लोगों को इस दौरान पूरी तरह से उपवास भी नहीं रखना चाहिए।

यह भी पढ़े: 2 जुलाई राशिफल: आज लगने जा रहा है साल का दूसरा सूर्य ग्रहण, सावधान रहे इन 5 राशियों के लोग

कौन रख सकता है उपवास

वे लोग जो बीमार हैं या जो बुजुर्ग हैं उन्हें इस दौरान उपवास नहीं करना चाहिए। लेकिन वे इस दौरान हल्का सात्विक भोजन ले सकते हैं। जो पचने में आसान हो और पेट के लिए भी हल्के हों। इस दौरान खाने में आप मेवे ले सकते हैं। यह कम मात्रा में खाने पर भी शरीर को पूरी एनर्जी देंगे।

पानी पी सकते हैं

इस दौरान पानी पीने से भी बचना चाहिए। क्योंकि सूर्य की किरणें न होने के चलते बैक्टिरीया एक्टिव होते हैं। अगर आप बीमार हैं या आप गर्भवती हैं तो आप हल्का गर्म पानी पी सकते हैं। इसमें 8-10 बूंदे तुलसी का जूस या पत्ते ड़ाल कर उबाल सकते हैं। इसके साथ ही अगर आप सादा पानी नहीं पीना चाहते तो नारियल का पानी पी सकते हैं। सबसे बेहतर यह होगा कि आप ग्रहण से पहले ही अच्छी मात्रा में पानी पी लें।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी भी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रूचि के आधार पर लिखा गया है।