बेंगलुरु कमिश्नर का पुलिस वालों को आदेश, ‘वीमेन सेफ्टी पर थाने की सीमा नहीं..कर्तव्य याद रखें’

Bengaluru police commissioner
New Delhi: हैदराबाद रेप और मर्डर केस से सबक लेते हुए बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर (Bengaluru police commissioner) भास्कर राव ने पुलिस फोर्स को कुछ विशेष दिशा निर्देश देते हुए महिला सुरक्षा दल (Women Suraksha Dal) की शुरुआत की है।

उन्होंने (Bengaluru police commissioner) पुलिसकर्मियों को हिदायत दी है कि मदद (Women Suraksha Dal) के लिए आने वाली हर कॉल को ‘बम की धमकी’ जैसी कॉल्स की तरह गंभीरता से लें। हैदराबाद रेप केस के बाद भास्कर ने महिलाओं से अपील की थी कि वह किसी भी मुसीबत के वक्त पुलिस के पास जाने से न कतराएं।

राव ने वायरलेस के जरिए बेंगलुरु के सभी पुलिसकर्मियों को निर्देश दिया, ‘चाहे जो कॉल हो, उसका सात सेकंड के अंदर जवाब दें। किसी भी कॉल को प्रैंक कॉल समझकर नजरअंदाज न करें। हर कॉल पर प्राथमिकता के आधार पर ऐक्शन लें और तुरंत प्रतिक्रिया दें।’

उन्होंने पुलिसकर्मियों को यह भी हिदायत दी कि किसी शख्स पर मुसीबत के वक्त थाने की सीमा के विवाद में न उलझें। उन्होंने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने इसको लेकर साफ निर्देश दिए हैं। इसलिए किसी भी शख्स को यह कहकर वापस न भेजें कि यह आपके इलाके का मामला नहीं है। पहले ऐक्शन लें और बाद में केस को ट्रांसफर कर दें।’

हैदराबाद केस में पुलिस पर लगा लापरवाही का आरोप

बता दें कि हैदराबाद में महिला डॉक्टर से रेप और बेरहमी से हत्या के मामले ने पूरे देश को दहला दिया। मृतक डॉक्टर के परिवार ने पुलिस पर आरोप लगाया कि उन्होंने समय रहते कार्रवाई नहीं की और परिवार को यह कहकर इधर-उधर दौड़ाते रहे कि यह उनके इलाके का मामला नहीं है।