सिद्धू को सरकार ने दी पाकिस्तान जाने की इजाजत, कहा था-अनुमति नहीं दी तो भी जाऊंगा

Navjot Singh Sidhu
New Delhi: भारत सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को इजाजत दे दी है।

बता दें कि पाकिस्‍तान जाने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) इस कदर बेकरार थे कि उन्‍होंने सरकार को तीन बार पत्र लिखकर पाकिस्‍तान जाने की अनुमति मांगी थी। इतना ही नहीं उन्‍होंने यहां तक कह दिया था कि अगर सरकार ने उन्‍हें कॉरिडोर के जरिए अनुमति नहीं दी तो वह वाघा बॉर्डर (Wagah Border) के जरिए पाकिस्‍तान चले जाएंगे। हालांकि गुरुवार शाम तक आते आते सरकार ने उन्‍हें पाकिस्‍तान (Pakistan) जाने की राजनीतिक मंजूरी दे दी।

गुरुवार को सरकार ने 9 नवंबर को भारत और पाकिस्‍तान में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू को इजाजत दे दी। बता दें कि 12 नवंबर को गुरुनानकदेव जी का 550वां प्रकाश पर्व है। इस बार करतारपुर कॉरिडोर के खुल जाने से ये और भी खास हो गया है। इससे पहले पाकिस्तान उच्चायोग ने बुधवार को नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तान जाने के लिए वीजा जारी कर दिया था। लेकिन भारत की ओर से उन्‍हें अनुमति मिलने में देरी हुई।

बता दें कि पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए नवजोत सिंह सिद्धू को निमंत्रण भेजा था। इमरान खान ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर के लिए पहला पास नवजोत सिंह सिद्धू को ही दिया। ये पास पाकिस्तान हाई कमीशन की ओर से जारी किया गया है। इसके बाद से ही सिद्धू अनुमति के लिए लगातार पत्र लिख रहे थे। सिद्धू के न्योते पर विदेश मंत्रालय ने कहा था कि पाकिस्तान जाने के लिए सिद्धू को राजनीतिक मंजूरी लेनी होगी।

नवजोत सिंह सिद्धू को जब बुधवार तक अनुमति नहीं मिली तो उन्‍होंने गुरुवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर को लिखे तीसरे पत्र में कहा कि अगर उन्हें करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए सरकार की ओर से इजाजत नहीं मिलती है तो आम नागरिक की तरह वह भी नहीं जाएंगे, लेकिन अगर इस संबंध में किसी तरह का कोई जवाब नहीं आता है तो वह पाकिस्तान चले जाएंगे।

राजनीतिक मंजूरी जरूरी होती है

भले सिद्धू ने पाकिस्‍तान जाने की बात कह दी थी, लेकिन भारत सरकार ने पहले ही स्‍पष्‍ट कर दिया था कि पाकिस्तान सरकार द्वारा आमंत्रित किए गए सभी लोगों को पहले राजनीतिक मंजूरी लेनी होगी। इसीलिए नवजोत सिंह सिद्धू ने पिछले हफ्ते शनिवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और विदेशमंत्री एस जयशंकर से इस कार्यक्रम में भाग लेने की अनुमति मांगी थी।