पुलवामा की पहली बरसी पर राहुल गांधी ने पूछे सवाल, बोले ‘इसका सबसे ज्यादा फायदा किसे हुआ?’

Rahul Gandhi
New Delhi: ठीक एक साल पहले, 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आत्मघाती हमला (Rahul Gandhi On Pulwama Attack) हुआ था। इस हमले में सीआरपीएफ के 4
0 जवान शहीद हो गए थे।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस हमले (Rahul Gandhi On Pulwama Attack) में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए तीन सवाल किए हैं। ये तीन सवाल राहुल गांधी ने ट्विटर के जरिए पूछे हैं। राहुल ने कहा है कि इस हमले का सबसे ज्यादा फायदा किसे हुआ?

इस पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता कपिल मिश्रा ने पलटवार किया है। कपिल मिश्रा ने कहा है कि अगर देश पूछेगा कि इंदिरा-राजीव की हत्या का किसे फायदा हुआ तो क्या बोलोगे।

क्या हैं राहुल के तीन सवाल?

राहुल गांधी के तीन सवालों में दो सवाल कुछ यूं हैं। उन्होंने पूछा है, ‘इस हमले की जांच में क्या सामने आया?, बीजेपी की सरकार के वक्त में यह हमला हुआ था, सुरक्षा में हुई चूक के लिए किसे जिम्मेदार ठहराया गया है?’

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है, ‘पिछले साल भयानक पुलवामा हमले में अपनी जिंदगी गंवाने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। वे सभी असाधारण लोग थे, जिन्होंने हमारे राष्ट्र की सेवा और रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। भारत उनकी शहादत को कभी कभी नहीं भूलेगा।’

‘इंदिरा-राजीव की हत्या का फायदा किसे हुआ?’

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता कपिल मिश्रा ने कांग्रेस नेता पर पलटवार किया है। कपिल मिश्रा ने लिखा है, ‘शर्म करो राहुल गांधी। पूछते हो पुलवामा हमले से किसका फायदा हुआ? अगर देश ने पूछ लिया कि इंदिरा राजीव की हत्या से किसका फायदा हुआ, फिर क्या बोलोगे। इतनी घटिया राजनीति मत करो, शर्म करो।’

शहीद जवानों को श्रद्धांजलि

पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को हुए आत्मघाती हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों को देशभर में श्रद्धांजलि दी जा रही है। श्रीनगर स्थित सीआरपीएफ के लेथपोरा में मेमोरियल पर शहीद जवानों को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए।

पुलवामा अटैक में शहीद हुए थे 40 CRPF जवान

14 फरवरी 2019 को शाम के करीब 3 बजे थे। अचानक टीवी चैनलों पर एक ऐसी खबर आई, जिससे देश थर्रा उठा। खबर जम्मू-कश्मीर से थी। पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकी ने सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) के जवानों को ले जा रही एक बस से विस्फोटक भरे कार को टकरा दिया। इस फिदायीन हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे।