दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल का दौरा पड़ने से निधन, दिल्ली कांग्रेस में शोक की लहर

Sheila Dxit

नई दिल्ली। 15 सालों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही शीला दीक्षित का शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। शीला दीक्षित 81 साल की थी और पिछले कुछ समय से बीमार चल रही थी। दिल्ली की मुख्यमंत्री रहने के बाद शीला दीक्षित केरल में बतौर उपराज्यपाल भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। मौजूदा समय में शीला दीक्षित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थी।

https://twitter.com/ANI/status/1152526799403982848

शनिवार दोपहर शीला दीक्षित का दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में निधन हो गया। एस्कॉर्ट अस्पताल द्वारा जारी बयान के मुताबिक, दोपहर 3.15 मिनट पर शीला दीक्षित को दिल का दौरा पड़ा। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया और दोपहर 3.55 बजे उनका निधन हो गया।

यह भी पढ़ें : नहीं जानते होंगे पूर्व CM शीला दीक्षित की लव स्टोरी, DTC बस में मिला था शादी का प्रपोजल

https://twitter.com/ANI/status/1152531850386116609

शीला दीक्षित के अचानक निधन से दिल्ली कांग्रेस में शोक की लहर है। कांग्रेस आगामी दिल्ली विधानसभा चुनावों में शीला दीक्षित को बतौर सीएम के चेहरे को तौर पर उतारने की एक बार फिर तैयारी कर रही थी। शीला दीक्षित के निधन पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व दिल्ली कांग्रेस ने उनके परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की है।

https://twitter.com/RahulGandhi/status/1152536506587680768

2019 लोकसभा चुनावों के बाद शीला दीक्षित की तबीयत बिगड़नी शुरू हुई। कुछ दिन पहले उन्हें दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। शीला लंबे समय से गांधी-नेहरू परिवार की करीबी मानी जाती रही हैं। यही वजह है कि दिल्ली में कांग्रेस से जुड़े फैसलों पर शीला दीक्षित की सलाह ली जाती थी।

यह भी पढ़ें : शीला दीक्षित: वो CM जिसने जाम में रेंगती दिल्ली को बनाया मेट्रो सिटी

बदल दी दिल्ली की सूरत
  • शीला की सरकार में ही दिल्ली में इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में बड़े बदलाव हुए। दिल्ली में जगह-जगह फ्लाईओवर और दिल्ली मेट्रो का विस्तार हुआ। इसके साथ ही दिल्ली के सौंदर्यीकरण का काम भी शीला की सरकार में तेजी से हुआ।
  • दिल्ली में पहली बार मेट्रो ट्रेन 2002 में शीला दीक्षित की पहली सरकार में ही शुरू हुई।
  • इसके बाद दिल्ली मेट्रो का विस्तार दिल्ली के चारों कोनों में हुआ और गुरुग्राम और नोएडा में भी मेट्रो पहुंची।
  • 2003 में दिल्ली ने 19वें कॉमनवेल्थ खेलों की मेजबानी हासिल की। 2010 में शीला सरकार के रहते हुए खेलों का सफल आयोजन हुआ।
  • एम्स, बारापुला और DND जैसे कई ऐसे इलाकों में फ्लाईओवर बनवाए, जिन्होंने दिल्ली को बड़े जाम से छुटकारा दिलवाया।
  • शीला दीक्षित ने दिल्ली परिवहन निगम की भी सूरत बदली और पुरानी बसों को हटाकर, नई लो-फ्लोर बसों को शामिल किया, जिनमें पहली बार दिल्ली में एसी बसें भी चलीं।