कर्नाटक में गिरी कांग्रेस-जेडीएस सरकार, एचडी कुमारस्वामी नहीं साबित कर सके बहुमत

Karnataka HD Kumaraswami
New Delhi: कर्नाटक विधानसभा (Karnataka) में विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बाद अब वोटिंग हुई और 14 माह पुरानी एचडी कुमारस्वामी (HD Kumarswamy) सरकार गिर गई। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी अपना बहुमत साबित नहीं कर सके।

सरकार के पक्ष में 99 वोट पड़े, जबकि विरोध में 105 वोट डाले गए। इससे पहले विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान एचडी कुमारस्वामी (HD Kumarswamy) ने कहा कि मैं वोटिंग के लिए तैयार हूं। कुमारस्वामी ने कहा कि मैं खुशी-खुशी यह पद भी छोड़ने को तैयार हूं। उन्होंने कहा कि राजनीति में मैं अचानक और अप्रत्याशित तौर पर आया था। जब विधानसभा चुनाव का परिणाम (2018 में) आया था, मैं राजनीति छोड़ने की सोच रहा था।

यह भी पढ़ें : RTI एक्ट में बदलाव से कमजोर होगा सूचना आयोग, ये भी होगा असर

कुमारस्वामी सरकार को 9 वोट कम मिले। 23 मई 2018 को कर्नाटक में कुमारस्वामी की सरकार बनी थी। इससे पहले, सदन में कुमारस्वामी ने कहा, विश्वासमत की कार्यवाही को लंबा खींचने की मेरी कोई मंशा नहीं थी। मैं विधानसभा अध्यक्ष और राज्य की जनता से माफी मांगता हूं। उन्होंने आगे कहा, ‘मैं एक ऐक्सिडेंटल सीएम हूं। मैं अच्छा काम करने के लिए आया था। कांग्रेस-जेडीएस (Congress-JDS) अच्छा काम करने के लिए साथ आई थी।’

विधानसभा की दलीय स्थिति कुछ इस प्रकार है:
  • कांग्रेस-जेडीएस 100
  • बीजेपी 105
  • निर्दलीय 02
  • बीएसपी 01
  • बागी 15

शहर में शाम 6 बजे से अगले 48 घंटे के लिए धारा 144 लगा दी गई है। बेंगलुरू पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा, “आज और कल पूरे शहर में धारा 144 लागू रहेगी। सभी पब, शराब की दुकानें 25 जुलाई तक बंद रहेंगी। यदि कोई इसका उल्लंघन करेगा तो उसे दंडित किया जाएगा।”

सत्ता पक्ष के विधायकों की गैर-मौजूदगी पर स्पीकर नाराज

सदन में जब बहस शुरू हुई तो सत्ता पक्ष (ट्रेजरी बेंच) में ज्यादातर विधायक गैर-हाजिर थे। इस पर स्पीकर रमेश कुमार ने नाराजगी जाहिर की। उन्होंने पूछा कि गठबंधन सरकार के विधायक कहां हैं? इससे पहले इस्तीफा देने वाले बागी विधायकों ने स्पीकर को एक खत लिखा, इसमें उन्होंने मांग की कि उन्हें मुलाकात के लिए 4 हफ्तों का वक्त दिया जाए। इन बागियों को स्पीकर ने सोमवार को मिलने के लिए नोटिस भेजा था। सुप्रीम कोर्ट में बागी विधायकों की याचिका पर बुधवार को सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें : DDA Housing Scheme 2019 Result: शुरू हुआ ड्रा, ऐसे चेक करें आपका फ्लैट निकला या नहीं

इस्तीफे वाले पत्र पर स्वामी ने कहा- किसी ने जाली दस्तखत किए

सोशल मीडिया पर सोमवार को एक पत्र सामने आया, जिसमें दावा किया गया कि यह कुमारस्वामी का इस्तीफा है। इस पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने विधानसभा में कहा कि मुझे इस संबंध में सूचना मिली है। कहा जा रहा है कि मैंने अपना इस्तीफा गवर्नर को भेज दिया है। मुझे नहीं पता कि कौन मुख्यमंत्री बनने का इंतजार कर रहा है। किसी ने मेरे जाली दस्तखत किए हैं और इसे सोशल मीडिया पर फैला दिया है। इस तरह की गिरी हुई हरकत देखकर मैं हैरान हूं।

यह भी पढ़ें : बर्थडे स्पेशल: भारत मां का वो ‘आजाद’ शेर, जिससे खौफ खाती थी अंग्रेजी हुकूमत

कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायकों ने दिया इस्तीफा

उमेश कामतल्ली, बीसी पाटिल, रमेश जारकिहोली, शिवाराम हेब्बर, एच विश्वनाथ, गोपालैया, बी बस्वराज, नारायण गौड़ा, मुनिरत्ना, एसटी सोमाशेखरा, प्रताप गौड़ा पाटिल, मुनिरत्ना और आनंद सिंह इस्तीफा सौंप चुके हैं। वहीं, कांग्रेस के निलंबित विधायक रोशन बेग ने भी इस्तीफा दे दिया। 10 जून को के सुधाकर, एमटीबी नागराज ने इस्तीफा दे दिया था।