पिता की मौ’त के 24 घंटों के अंदर ड्यूटी पर लौटे IAS निकुंज,मिली है कोरोना से लड़ने की जिम्मेदारी

IAS Nikunj Dhal
New Delhi: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus or COVID-19) के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। भारत में भी कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या पर सरकार एक्शन में है। इस बीच ओड़िशा की राजधानी भुवनेश्वर में एक आईएएस अफसर (IAS Nikunj Dhal) ने अपने काम की गरिमा को बनाए रखते हुए मिसाल पेश की है।

दरअसल, ओड़िशा के प्रमुख स्वास्थ्य सचिव IAS निकुंज ढल (IAS Nikunj Dhal) को प्रदेश में कोरोना वायरस की रोकथाम की जिम्मेदारी दी गई है। वह लगातार स्वास्थ्य व्यवस्थाओं और राज्य के सभी जिलों में कोरोना की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे अभियानों का नेतृत्व कर रहे थे। इसी बीच उनके पिता का देहां’त हो गया। पिता के निध’न के 24 घंटों के भीतर ही IAS निकुंज ढल ने वापस अपना कामकाज संभाल लिया है।

क्या है जिम्मेदारी

ओडिशा के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य निकुंज ढल (IAS Nikunj Dhal) प्रदेश सरकार के अन्य अफसरों के साथ कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए प्रदेश में चलाए जा रहे तमाम कार्यक्रमों की निगरानी कर रहे है। इसके अलावा मरीजों की चिकित्सकीय व्यवस्थाओं और तमाम जिलों में जागरुकता कार्यक्रमों की निगरानी का काम भी निकुंज के जिम्मे है।

सरकारी अफसरों की छुट्टियां रद्द

ओडिशा सरकार ने कोरोना के कहर को देखते हुए प्रदेश के सभी संबंधित सरकारी विभागों में अफसरों की छुट्टियों को रद्द कर दिया है। सरकार की इस लड़ाई में IAS निकुंज इस वक्त पूरी सक्रियता के साथ काम कर रहे हैं।

निकुंज ना सिर्फ प्रदेश के अस्पतालों से लगातार स्वास्थ्य इंतजामों पर अपडेट ले रहे हैं, बल्कि सभी स्थानों पर सुरक्षा और लोगों की जागरुकता के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों की मॉनिटरिंग भी कर रहे हैं। ऐसे में अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए ही निकुंज ने अब अपनी ड्यूटी को फिर से जॉइन किया है।

ओडिशा के सभी जिलों में धारा 144 लागू

दूसरी ओर ओडिशा सरकार ने हाल ही में सभी जिलों में धारा 144 लागू करते हुए प्रशासन को पूरी तरह से अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं। सरकार की ओर से ओडिशा के सभी जिलों में आने जाने वाले लोगों पर नजर रखी जा रही है। इसके अलावा अलग-अलग अस्पतालों में भी कोरोना से लड़ने के लिए हर संभव इंतजाम किए गए हैं।