भाई की हत्या का लेना था बदला.. इसलिए CAA विरोध प्रदर्शन के दौरान चलाई पुलिसवालों पर गोलियां

CAA Protest
New Delhi: नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन (CAA Protest) के दौरान मेरठ में पुलिसकर्मियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाने के आरोप में गिरफ्तार अनीस उर्फ खलीफा ने चौंकानेवाला खुलासा किया है।

अनीस ने कहा कि 1987 के दंगों में पुलिस ने उसके भाई की हत्या की थी। इसके बाद से ही वह खाकी से नफरत करने लगा था। अनीस ने कहा कि नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन (CAA Protest) ने उसे अपना बदला लेने का मौका दे दिया।

बुधवार को पुलिस की पूछताछ में अनीस ने कहा, ‘सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों ने मुझे हिसाब बराबर करने का मौका दे दिया। इसीलिए मैंने पुलिसवालों पर फायरिंग की थी क्योंकि उन्होंने मेरे भाई को मारा था।’

अनीस का खुलासा

बता दें कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अनीस की पहचान की गई थी। उसे पुलिसकर्मियों पर फायरिंग करते हुए पाया गया था। पुलिस ने अनीस के पास से हथियार और जिंदा कारतूस भी बरामद किए हैं। अनीस ने यह भी कबूल किया कि उसने पिछले साल ही पीएफआई में शामिल हुआ था।

तीन लोग इस आरोप में गिरफ्तार

एसएसपी अजय साहनी ने बताया, ’20 दिसंबर को विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर गोली चलाने के आरोपी में कुल 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अनीस ने पूछताछ में बताया कि 1987 के दंगों में भाई की मौत के बाद उसे खाकी से नफरत हो गई थी और इसीलिए उसने पुलिसकर्मियों पर गोलियां चलाईं।’

5 पुलिसकर्मियों को लगी थी गोली

मेरठ में पुलिस ने 178 उपद्रवियों की सीसीटीवी फुटेज से पहचान की थी। अनीस पर 20 हजार रुपये का इनाम भी था। एसएसपी के मुताबिक अभी तक कुल 45 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इससे पहले अनस नामक शख्स को भी इस आरोप में गिरफ्तार किया गया है। मेरठ में 6 प्रदर्शनकारियों की मौत हुई थी। इस दौरान 5 पुलिसकर्मी सहित 10 लोगों को गोलियां लगी थीं।